Thu. Dec 12th, 2019

जो लोग इनेलो ने पहले ही पद मुक्त कर दिए थे वे अब इस्तीफ़ा के रच रहे हैं ढोंग : पबनावा

इनेलो

सावन पबनावा

सुप्रीमो चौटाला के कुशल नेतृत्व में इनेलो-बसपा के गठबंधन में सरकार बनना तय


कैथल,  युवा नेता सावन पबनावा ने कहा कि जो लोग इनेलो द्वारा पहले ही पद मुक्त कर दिए थे वे अब इस्तीफा की थोथी बातें करके झूठी वाहवाही लूटने का काम कर रहे हैं। सावन ने बताया कि ऐसे सामूहिक इस्तीफे देने का ढोंग करके जनता को बरगलाने से कुछ नहीं होता क्योंकि जनता उनकी असलियत जानती है।


उन्होंने कहा कि कुछ लोग 15 बार इस्तीफा देने का ढोंग रच कर इनेलो को कमजोर करने का वहम पाले हुए हैं लेकिन इनेलो चट्टान की तरह मजबूत है, जिसका प्रमाण चंडीगढ़ में 97 फीसदी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं द्वारा एकजुट होकर दिया जा चुका है। सावन ने कहा कि नई पार्टियों का हश्र क्या होता है, इसकी जानकारी प्रदेश की जनता जानती है। प्रदेश की जनता ने चौ० बंसी लाल की हविपा, चौ० भजन लाल की हजकां, चौ० वीरेंद्र सिंह, गोपाल कांडा की हलोपा व विनोद शर्मा की पार्टियों के हाल देख चुकी है। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों को खत्म होने पर आखिर घर वापसी करनी पड़ी थी।


इनेलो-बसपा गठबंधन की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए भाजपा, कांग्रेस और दुष्यंत समर्थकों में हलचल मची हुई है : सावन


पबनावा ने जानकारी देते हुए कहा कि चौधरी देवीलाल के आशीर्वाद से और सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला के कुशल नेतृत्व में इनेलो-बसपा के मजबूत गठबंधन में सरकार बनना तय है और इनेलो-बसपा गठबंधन की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए भाजपा, कांग्रेस और दुष्यंत समर्थकों में हलचल मची हुई है।


उन्होंने इस्तीफा देने की बात करने वाले लोगों को टिकट के लालची बताया। सावन ने कहा कि जो लोग पार्टी के सच्चे सिपाही होते हैं वे ना तो इस्तीफे देने की बात करते हैं और न टिकट मांगने की बात करते हैं। सावन ने कहा कि चौधरी अभय सिंह चौटाला जल्द ही कुरुक्षेत्र से रथयात्रा की शुरुआत करेंगे और सरकार की नाकामियों से जनता को अवगत करवाएंगे। इस रथयात्रा का मुख्य उद्देश्य भाजपा सरकार की खामियों को जनता तक पहुंचा कर इस सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया जाएगा और इनेलो- बसपा गठबंधन की सरकार बनाने की पैरवी की जाएगी। इस मौके पर उनके साथ अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *