Sat. Aug 24th, 2019

मुंबई में बड़ा हादसा, सीएसटी रेलवे स्टेशन के पास गिरा फुटओवर ब्रिज

मुंबई के सीएसटी (छत्रपति शिवाजी टर्मिनस) रेलवे स्टेशन के पास एक फुटओवर ब्रिज गिर गया। हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई है, जबकि 34 से ज्यादा घायल हुए हैं। घटना शाम करीब साढ़े सात बजे की है। हादसे के चलते ब्रिज का करीब 60 फीसदी हिस्सा ढह गया है। यह ब्रिज रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक को जोड़ने का कार्य करता था। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) मौके पर मौजूद है।


घटनास्थल पर पुलिस और एंबुलेंस पहुंच गए हैं। मुंबई पुलिस ने हादसे में तीन लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। पुलिस ने बताया कि हादसे में 34 लोग घायल भी हुए हैं। घायलों को सेंट जॉर्ज और जीटी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे के वक्त कई वाहन और लोग ब्रिज के नीचे से गुजर रहे थे। ब्रिज के मलबे में कई लोगों के फंसे होने की आशंका है।

हादसे के समय पुल पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। शाम का समय होने के चलते दफ्तरों से वापस आने वाले लोग भी पुल का इस्तेमाल करते हैं। बताया जा रहा है कि इस हादसे में जिन दो महिलाओं की मृत्यु हुई है वो जीटी अस्पताल की कर्मचारी थीं। यह हादसा उस वक्त हुआ जब वह शाम को अस्पताल से घर जा रही थीं। बचाव कार्य में जुटे एनडीआरएफ के मुताबिक 10 से 12 लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है। क्षेत्रीय प्रतिक्रिया केंद्र के एक दल को घटनास्थल पर रवाना किया गया है। 

हादसे को लेकर रेलवे मंत्रालय ने कहा कि ब्रिज बीएमसी के अंतर्गत आता है। हम घायलों की हर संभव सहायता कर रहे हैं। रेलवे के डॉक्टर और अधिकारी राहत व बचाव कार्य में बीएमसी की मदद कर रहे हैं।

दक्षिण मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी) रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर एक को जोड़ने वाला फुटओवर ब्रिज 14 मार्च को शाम 07.30 बजे ढह गया। उस समय इससे कई लोग स्टेशन जा भी रहे थे और वहां से आ भी रहे थे। वहीं पुल के नीचे से भी लोगों का आवागमन जारी था। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक ब्रिज के मलबे में कई लोग दबे हो सकते हैं। पुल का 60 फीसदी हिस्सा गिरा है गौरतलब है कि पिछले वर्ष जुलाई में भी मुंबई में ही एक रेलवे स्टेशन का पुल ढह गया था।

इस पुल का संबंध 26 नंवबर 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले से भी था। पाकिस्तानी आतंकी अजमल आमिर कसाब सीएसटी रेलवे स्टेशन पर गोलीबारी करने के बाद इसी पुल से उतरते हुए आगे गया था।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *