Sun. Sep 15th, 2019

राहुल हरियाणा के कांग्रेसियों से नाराज

लोकसभा चुनावो के मद्देनजर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा द्वारा जैसे ही उत्तर भारत के नेताओ को दिल्ली बैठक के लिए तलब किया गया वैसे ही एक बार फिर कांग्रेस के उन नेताओ के चेहरे सामने आये जो एकजुटता का राग तो अलापते है परंतु उनके नाम भी उस सूचि मे शामिल है जो कांग्रेस हाईकमान के पास मौजूद है। गत दिवस हरियाणा प्रदेश कांग्रेस नेताओ के प्रति जैसे ही राहुल गांधी ने तेवर तीखे किये तो प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अशोक तंवर घबरा गये उधर दिल्ली मे पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा श्री गांधी के साथ बैठक कर रहे थे तो श्री तंवर चंडीगढ़ मे अपने पार्टी नेताओ की एकजुटता का प्रदर्शन करने का प्रयास कर रहे थे।

शक्ति प्रदर्शन न आया काम : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के समक्ष पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिह का शक्ति प्रदर्शन तो रंग ले आया परंतु जब बारी हरियाणा कांग्रेस की आई तो शक्ति प्रदर्शन पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का दिखाई पड़ने लगा। श्री हुड्डा का गुट जब हावी हो रहा था तो बताया जा रहा है कि राहुल गांधी ने खूब फटकार लगाई। सूत्रों की माने तो पार्टी के राज्य नेतृव्य मे बदलाव का दबाव बनाया गया परंतु अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा गुलाम नबी आजाद व पहले पार्टी प्रभारी रह चुके तीन अन्य नेताओ के समक्ष राहुल गांधी ने स्पष्ट कर दिया कि वह दबाव के आगे झुकने वाले नही। बताया तो यह भी जा रहा है कि कांग्रेस हाईकामन राहुल के समक्ष यह कहा गया कि यदि श्री हुड्डा को पार्टी की कमान नही सौंपी जाती तो अन्य नेता बैकफुट पर आ जाएंगे।

गुटबाजी से पार्टी पड़ी कमजोर
हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के प्रति एक बात खुलकर राहुल गांधी के समक्ष आई कि हरियाणा प्रदेश मे सत्तारूढ़ भाजपा एकबार कमजोर पड़ गई और कांग्रेस की लहर काफी ऊंचाई पर थी परंतु कांग्रेस की गुटबाजी ने एकबार फिर भाजपा को मजबूत करने मे मदद कर दी। सूत्रों की माने तो यह भी कहा यगा कि इंडियन नेशनल लोकदल के विभाजन का जो लाभ कांग्रेस को मिलना चाहिए था वो इसी गूटबाजी के कारण अब भाजपा को मिल रहा है। कुछ लाभ जननायक जनता पार्टी को भी जा रहा है।

प्रियंका ने किया हस्तक्षेप
हरियाणा कांग्रेस मे सत्ता पर कब्जे को लेकर नेताओ मे चल रही आपसी खिंचातान पर जब राहुल गांधी नाराज हुए तो बताया जा रहा है कि उनकी बहन प्रिंयका गांधी ने हस्तक्षेप किया। सूत्रो की माने तो कुछ हद तक प्रिंयका का झुकाव पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के प्रति था जो श्री हुड्डा के लिये संजीवनी साबित हो सकता है।

हरियाणा कांग्रेस के नेता एकजुट हैं : हुड्डा
भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने बताया कि हरियाणा कांग्रेस के नेता एकजुट हैं और लोकसभा चुनाव में सभी नेता एकजुट होकर कांग्रेस के लिए प्रचार प्रसार करेंगे। उन्होने बताया कि संगठन में बदलाव और अन्य कामों के लिए राहुल गांधी के पास सारे अधिकार हैं। हुड्डा ने कहा कि हरियाणा में बीजेपी की तरफ से दसों लोकसभा सीटों पर चुनाव जीतने का दावा किया जा रहा है लेकिन उनको चुनावी फैसलों के बाद इस बात का पता चलेगा कि हरियाणा की जनता किसके साथ है। उन्होने बताया कि कर्मचारी सड़को पर है, गरीब वर्ग बुरी तरह से परेशान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *