एक ही स्कूल की मिनी बस और वैन की भिड़ंत में दो छात्राओं की मौत, तीन घायल

Spread the love

कोहरे और चालक की लापरवाही के कारण गांव गोविंदपुरा स्थित द्रोणाचार्य सीनियर सेकेंडरी स्कूल के दो वाहनों की आमने सामने की भिड़ंत हो गई। इसमें 12वीं और सातवीं कक्षा की दो छात्राओं की मौत हो गई जबकि तीन अन्य बच्चे घायल हो गए। हादसे में एक छात्रा का पोस्टमार्टम दादरी के सिविल अस्पताल में कराया गया है जबकि दूसरी का पोस्टमार्टम मंगलवार सुबह कराया जाएगा। हादसे में घायल एक छात्र का हिसार के निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। दो अन्य को मामूली चोटें आई हैं। बाढड़ा पुलिस ने मृतका छात्रा के परिजनों के बयान पर बस चालक के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं, हादसे के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारी भी स्कूल पहुंचे लेकिन वहां ताला लगा मिला। विभागीय अधिकारी ने बताया कि स्कूल परिसर में मौजूद चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने विभाग की टीम को अंदर नहीं जाने दिया। इस मामले की विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है क्योंकि राजपत्रित अवकाश के बावजूद स्कूल खुला था।
गांव गोविंदपुरा स्थित प्राइवेट स्कूल की वैन आर्य नगर की तरफ से स्कूल आ रही थी। दूसरी तरफ से मिनी बस बच्चों को लेने जा रही थी। स्कूल से थोड़ा आगे चलकर कोहरे की अधिकता और बस चालक की लापरवाही के कारण दोनों वाहनों की आमने-सामने की भिड़ंत हो गई। घटना में आर्य नगर निवासी 12वीं कक्षा की छात्रा सोनिका, प्रीति और दीपक सहित पांच बच्चे घायल हो गए। वहीं, हादसे के बाद घटनास्थल पर लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। मामले की सूचना पाकर स्कूल प्रबंधन कमेटी सदस्य भी मौके पर पहुंचे। इस दौरान हादसे में घायलों को उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां छात्रा सोनिका को मृत घोषित कर दिया गया जबकि दो घायल प्रीति और दीपक को प्राथमिक उपचार के बाद हिसार रेफर किया गया। देर शाम हिसार के एक अस्पताल में सातवीं कक्षा की छात्रा प्रीति ने भी दम तोड़ दिया। इससे पहले मामले की सूचना पाकर बाढड़ा पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंची और छात्रा सोनिका के शव को अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव को दादरी के सिविल अस्पताल में पहुंचाया और परिजनों के बयान दर्ज किए। पुलिस ने कागजी कार्रवाई पूरी कर शव का पोस्टमार्टम कराया। मामले में स्कूल प्रबंधन से फोन पर संपर्क करने की कोशिश की गई तो कई बार नंबर मिलाने के बावजूद मोबाइल स्विच ऑफ मिला।

घटना के बाद मौके पर पहुंचे अभिभावक
स्कूली वाहनों के टकरा जाने की घटना के बाद बच्चों के घायल होने की सूचना पर अभिभावक मौके पर पहुंचे और अपने-अपने बच्चों के बारे में जानकारी ली। सूचना मिलने पर पुलिस भी पहुंची। पुलिस ने मृतका सोनिया के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए दादरी सरकारी अस्पताल पहुंचाया।

महाशिवरात्रि पर था राजपत्रित अवकाश
राजकीय अवकाश के दिन भी जिले के अधिकतर प्राइवेट स्कूल खुले रहे। शिक्षा विभाग इस बारे में कतई सख्ती नहीं बरत रहा है। विभाग के अधिकारियों को भी हेड ऑफिस से हिदायतें हैं कि वे सरकार के निर्देशों की पालना करवाना सुनिश्चित करे लेकिन हर राजकीय अवकाश के दिन प्राइवेट स्कूलों में कक्षाएं लगती हैं। बाढड़ा ब्लॉक के बीईओ श्रीकिशन शर्मा ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही शिक्षा विभाग से प्रधानाचार्य विनोद शर्मा को मौके पर भेजा गया। घटना की गंभीरता से जांच की जा रही है। इस दौरान प्राचार्य को द्रोणाचार्य सीनियर सेकेंडरी स्कूल की बसें अंदर मिली। वहीं स्कूल के मेन गेट पर ताला लटका मिला। शिक्षा विभाग की टीम को अंदर प्रवेश भी नहीं करने दिया गया। राजकीय अवकाश के दिन स्कूल न लगाने संबंधी निर्देश स्कूलों को भेज रखे हैं। उसके बावजूद स्कूल लगाना नियमों का उल्लंघन है इस बारे में पूरी रिपोर्ट आने के बाद विस्तारपूर्वक जांच की जाएगी।

कोट
हादसे का कारण कोहरा और बस चालक की लापरवाही सामने आया है। पुलिस ने बस चालक पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। हादसे में द्रोणाचार्य सीनियर सेकेंडरी स्कूल की दो छात्राओं सोनिका और प्रीति की मौत हुई है जबकि अन्य को मामूली चोटें आई हैं। – रामौतार, बाढड़ा थाना प्रभारी

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *