हरियाणा के गौरव व विकास की भावी योजनाओं में अपने सकारात्मक सुझाव सरकार को दें

चंडीगढ़, हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने प्रदेश की  और हरियाणा के गौरव व विकास की भावी योजनाओं में अपने सकारात्मक सुझाव सरकार को दें। सरकार ने  स्वर्ण जयंती उत्सव के लिए एक सांझा प्लेटफार्म उपलब्ध करवाया है तथा एक वर्ष के कार्य की रूप-रेखा तैयार की गई है, जिसके तहत 50 नई योजनाओं  के लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं। लोकतंत्र में सत्ता पक्ष व विपक्ष एक सामूहिक गुलदस्ता होता है। लोकतंत्र में सरकार के गलत कार्यों की आलोचना करना विपक्ष का दायित्व बनता है तथा साथ-साथ सकारात्मक सुझाव देना भी हमारे लोकतंत्र का हिस्सा है। 
मुख्यमंत्री आज पंचकूला के सैक्टर एक स्थित रैड बिशप में बुलाई गई हरियाणा स्वर्ण जयंती समारोह की प्रथम राज्य स्तरीय समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। 
सिने जगत के निर्माता-निर्देशक और हास्य अभिनेता कलाकार श्री सतीश कौशिक के सुझाव पर मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि हरियाणा फिल्म नीति 31 दिसंबर, 2016 तक घोषित कर दी जाएगी। इसके अलावा हरियाणा के हर गांव में स्वर्ण जयंती के अवसर पर एक-एक हरियाणवी फिल्म दिखाई जाएगी।
बैठक में हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष श्री कंवर पाल, उपाध्यक्ष श्रीमती संतोष यादव, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री सुभाष बराला, हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, कृषि मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती कविता जैन, लोकनिर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह, परिवहन मंत्री श्री कृष्ण लाल पंवार, उद्योग मंत्री श्री विपुल गोयल, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी राज्य मंत्री डॉ० बनवारी लाल, अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा कल्याण वर्ग राज्य मंत्री श्री कृष्ण कुमार बेदी, खाद्य एवं आपूर्ति राज्य मंत्री श्री कर्ण देव काम्बोज, सांसद श्री रतन लाल कटारिया और श्री रमेश चंद्र कौशिक, मुख्य संसदीय सचिव श्रीमति सीमा त्रिखा, श्री बख्शीश सिंह विर्क, श्री कमल गुप्ता और श्री श्याम सिंह राणा, विधायक श्री ज्ञान चंद गुप्ता, श्री तेज पाल तंवर और श्रीमति विमला चौधरी, बीजेपी राज्य मीडिया इंचार्ज श्री राजीव जैन, भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रो० गणेशी लाल, विपक्षी पार्टी इनैलो के अध्यक्ष श्री अशोक अरोड़ा, विधानसभा व पार्टी के उप नेता सरदार जसविंदर सिंह संधु, शिरोमणी अकाली दल के विधायक बलकौर सिंह, निर्दलीय विधायक जयप्रकाश, पूर्व उपराज्यपाल श्रीमती चंद्रावती, पूर्व सांसद रामजी लाल, झज्जर, दुबलधन के स्वतंत्रता सेनानी ललति राम, ओलंपिक पहलवान कुमारी साक्षी मलिक, जाने-माने फिल्म निर्माता और निर्देशक श्री सतीश कौशिक, जादूगर शंकर सम्राट, ट्रिब्यून के एडिटर-इन-चीफ डॉ० हरीश खरे, हास्य कवि श्री सुरेन्द्र शर्मा, पर्वतारोही श्रीमती संतोष यादव,भारत के पूर्व चुनाव आयुक्त श्री एस.वाई.कुरैशी, साहित्य, उद्योग, फिल्म, नौकरशाही, सामाजिक क्षेत्र से जुड़े समिति के विभिन्न सदस्य उपस्थित थे, जिन्होंने स्वर्ण जयंती समारोह के लिए अपने-अपने सुझाव मुख्यमंत्री को दिये।  
मुख्यमंत्री ने सभी सुझावों का स्वागत करते हुए कहा कि अच्छे सुझावों को स्वर्ण जयंती उत्सव में अवश्य शामिल किया जाएगा। 
मुख्यमंत्री ने सभी सदस्यों से आहवान किया कि एक नवंबर, 2016 को गुडग़ांव से आरंभ किए जा रहे स्वर्ण जयंती वर्ष के पहले कार्यक्रम का शुभारंभ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी करेंगे और इस कार्यक्रम में अधिक से अधिक लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने सभी सदस्यों को इस कार्यक्रम के लिए अनौपचारिक रूप से आमंत्रित भी किया। श्री मनोहर लाल ने कहा कि राजनीति अपनी जगह है और सरकार अपनी जगह। चाहे किसी भी पार्टी की सरकार हो परंतु स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर में हमें आत्म-चिंतन करना चाहिए कि हरियाणा के भविष्य की तस्वीर क्या हो। यह समय अतीत के आंकलन व भविष्य की भूमिका के लिए विचार करने का समय है। प्रदेश के समग्र विकास के लिए ‘हरियाणा एक हरियाणवी एक’ तथा ‘सबका साथ-सबका विकास’ हमारी नीति है और इसी सोच पर चलते हुए हमने स्वर्ण जयंती वर्ष में हरियाणा के स्वर्णिम भविष्य के शीघ्रतर निर्माण के लिए विकास को और तेज करने तथा नये आयाम देने का निश्चित किया है ताकि यह प्रदेश आर्थिक और सामाजिक प्रगति की नई मंजिलों को छूकर राष्ट्र के निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सके। 
स्वर्ण जयंती वर्ष की सरकार की परिकल्पना पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी परिकल्पना ऐसे हरियाणा के नवनिर्माण की है जहां खेतों में भरपूर पैदावार हो, औद्योगिक विकास तेजी से हो, कोई भी अपने आप को उपेक्षित न समझे, युवा हुनरमंद हों, महिलाओं का सशक्तिकरण हो, सभी को तरक्की के समान अवसर मिलें, विकास परियोजनाओं का लाभ गरीब से गरीब व्यक्ति तक पहुंचे ताकि हम पंडित दीन दयाल उपाध्याय की अंत्योदय की परिकल्पना को साकार कर सकें। इसके अलावा हरियाणा की समृद्ध संस्कृति, गौरवशाली विरासत और उच्च नैतिक मूल्यों के संरक्षण एवं संवर्धन की दिशा में भी स्वर्ण जयंती वर्ष में अनेक पहल की जाएंगी। उन्होंने कहा कि राजनीतिक पार्टियों की विचारधारा अलग हो सकती है, सोच भिन्न हो सकती है लेकिन सभी का लक्ष्य एक है कि हरियाणा खुशहाल हो और प्रगति के पथ पर आगे बढे। इसके लिए मैं टीम भावना से काम करने का आप सभी से अनुरोध करता हूं। हमारा सबका लक्ष्य हरियाणा विकास की नई बुलंदियों को छूए, प्रदेश के नव निर्माण के लिए स्वर्ण जयंती वर्ष में नये कार्यक्रम शुरू किए जाने के आप द्वारा दिये गए विचारों का मैं स्वागत करता हूं। 
उन्होंने कहा कि कोई भी सदस्य स्वर्ण जयंती समारोह के नोडल विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ० के०के० खण्डेलवाल को लिखित रूप में या ई-मेल haryanaswarnajayanti@gmail.com, Website- haryanaswaranajayanti.org, Facebook-haryanaswarnajayanti, twiter- haryanaswarnajayanti , Instagram- haryanaswarnajayanti, Youtube- haryanaswarnajayanti   पर भी अपने सुझाव भेज सकते हैं। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा स्वर्ण जयंती उत्सव एक नवंबर, 2016 से 31 अक्तूबर, 2017 तक मनाया जाएगा और जिसका ‘लोगो’ (प्रतीक चिन्ह) गत दिनों गुडग़ांव में जारी किया गया है। इसका शीर्षक है: बदलता हरियाणा-बढ़ता हरियाणा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री व अन्य विशिष्ट अतिथियों ने स्वर्ण जयंती पुस्तक:मेरी कल्पना-मेरे विचार का विमोचन भी किया। इस अवसर पर स्वर्ण जयंती समारोह की भावी रूप-रेखा पर आधारित एक वृत चित्र का प्रदर्शन भी किया जिसकी सभी उपस्थित सदस्यों ने भूरि-भूरि प्रशंसा की और अपने संबोधनों में कहा कि उनके कुछ सुझाव इसमें पहले ही शामिल किए जा चुके हैं। 
मुख्य सचिव श्री डी.एस. ढेसी ने अपने स्वागतीय भाषण में हरियाणा गठन से लेकर अब तक की विभिन्न विकास गाथाओं पर प्रकाश डाला तथा स्वर्ण जयंती समारोह के लिए गठित कमेटी की रूप-रेखा व इसके सदस्यों के बारे जानकारी दी। 
इस मौके पर खेल मंत्री श्री अनिल विज ने अपने संबोधन में कहा कि इस वर्ष एक नवंबर को हम हरियाणा गठन के 50वें वर्ष  में प्रवेश करेंगे और इस वर्ष को हमें एक यादगार वर्ष के रूप में मनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हरियाणा के लोगों ने देश व विदेशों में नाम कमाया है और ऐसे लोगों का भी इस उत्सव में सहयोग लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वर्ण जयंती वर्ष के लिए 50 लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं, परंतु इतना ही काफी नहीं, हमें 50 नई कल्याणकारी योजनाएं, 50 परियोजनाएं भी बनानी चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ी हमें याद रखे कि स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर हरियाणा में अमुख काम हुआ था। उन्होंने कहा कि हमें आने वाले एक वर्ष में हरियाणा को शिखर पर ले जाना है। 
स्वर्ण जयंती समारोह समिति के संयोजक श्री राजीव शर्मा ने मुख्यमंत्री, कैबिनेट के अन्य सदस्यों व सांसदों-विधायकों व अन्य सदस्यों का प्रथम बैठक में पहुचंने पर स्वागत किया। उन्होंने खेल विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ० के०के० खण्डेलवाल का विशेष धन्यवाद किया, जिन्होंने इतने कम समय में समिति की पहली बैठक आयोजित करने में  लिटरेचर तैयार किया है। उन्होंने सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग के निदेशक तथा हरियाणा पर्यटन निगम के प्रबंध निदेशक श्री समीर पाल सरो का भी आभार व्यक्त किया जिन्होंने इस समारोह को इतनी भव्यता से आयोजित करने में व्यवस्था की। 
बैठक में मुख्य सचिव श्री डी.एस. ढेसी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर सहित हरियाणा सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। 

Leave a Comment