एनएचएम कर्मियों की हड़ताल जारी, अनशन शुरू अस्पताल में एडमिट नहीं करने से फर्श पर तडफ़ती रही बुर्जुग महिला

: सोनीपत ( आदेश त्यागी घसौली Untitled_0067 )   सामान्य अस्पताल परिसर में फर्श पर लेटी बीमार बुर्जुग। मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे एनएचएम कर्मचारी नारेबाजी करते हुए।
शहर के नागरिक अस्पताल के एनएचएम कर्मचारियों की अनिश्चितकालीन कालीन हड़ताल वीरवार को भी जारी रही। जिसका असर स्वास्थ्य सेवाओं पर भी देखने को मिला है। एम्बुलेंस न पहुंचने पर एक महिला की डिलीवरी रिक्शा में ही हो गई। दूसरी और एक बुजुर्ग महिला को अस्पताल में एडमिट ही नहीं किया गया और वो अस्पताल परिसर में ही जमीन पर लेटी तड़पती रही। एनएचएम कर्मचारियों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होती तब तक वो हड़ताल समाप्त नहीं करेगे। 9 और 10 अक्टूबर की जो हड़ताल में सरकार ने जो वायदे किये थे वो वायदे पूरे नहीं किये। इस कारण हमने दोबारा हड़ताल की है। वहीं हड़ताल का सीधा असर एम्बुलेंस सेवा पर पड़ा, जबकि अन्य स्वास्थ्य सुविधाएं भी प्रभावित रही। इस मामले पर जब सिविल सर्जन डा. जेएस पूनिया से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हड़ताली कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। उनके पास विभागीय पत्र आ चुका है। जिसके तहत वे कार्रवाई को अंजाम देंगे।
सोनीपत के नागरिक अस्पताल के एनएचएम कर्मचारी राजेन्द्र ने कहा कि हमारी 9 और 10 अक्टूबर की हड़ताल थी। उसमें सरकार ने हमसे कुछ वायदे किये थे। सरकार ने वो वायदे पूरे नहीं किये इस कारण एनएचएम कर्मचारियों को दोबारा हड़ताल करनी पड़ी और उनकी मांग है कि कच्चे कर्मचारियों को पक्का करे। कर्मचारियों ने कहा कि जब तक सरकार कर्मचारियों को पक्का नहीं करेगी संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि कुछ कर्मचारी अभी भी भूख हड़ताल पर भी बैठे है और जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होती सभी पूरे प्रदेश में एनएचएम कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे और भूख हड़ताल भी करेंगे।
एनएचएम कर्मचारियों की मुख्य मांगे
अनुबंधित कर्मचारियों की छंटनी को तुरंत प्रभाव से रोका जाए और किसी भी कर्मचारी की सेवाएं समाप्त की जाए। स्टेट स्लैब वरिष्ठता के आधार पर सभी कर्मचारियों के लिए तुरंत प्रभाव से लागू किए जाए। सभी कर्मचारियों को नियमित करने के लिए तुरंत प्रभाव से पालिसी बनाई जाए। सभी कर्मचारियों को समान काम समान वेतन दिया जाए। सभी कर्मचारियों का वेतन हर माह की पहली तारीख को दिया जाना सुनिश्चित करे। अर्बन हेल्थ सेंटर पोली क्लीनिक में कार्यरत अनुबंधित कर्मचारियों को भी वेतन वृद्धि का लाभ दिया जाए। स्टेट कमेटी के 6 सदस्यों को हटाने का आदेश वापिस हो।
वहीं एनएचएम कर्मचारी यूनियन के जिला प्रधान राजेश छिक्कारा ने कहा कि वह अपनी मांगों को लेकर हड़ताल जारी रखेंगे। सरकार को उनकी मांगें पूरी करनी ही होंगी। पांच कर्मचारियों ने अनशन शुरू कर दिया है। प्रधान ने कहा कि उनकी मांगें जायज हैं और वह लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं।
विदित रहे कि इस समय डेंगू, चिकनगुनिया मलेरिया से हजारों लोग पीडि़त है। ऐसे में नागरिक अस्पताल में कर्मचारियों की हड़ताल करने से स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हो गई है। जिसका खामियाजा बीमार लोगों को भुगतना पड़ रहा है। जब इस संबंध में सिविल सर्जन डा. जेएस पूनिया से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हड़ताली कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। उनके पास विभागीय पत्र आ चुका है। जिसके तहत वे कार्रवाई को अंजाम देंगे।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *