प्रदेश सरकार महिलाओं की शिक्षा को लेकर पूरी तरह गम्भीर : सीएम मनोहर लाल जल्द ही उपमंडल स्तर पर महिला थानों की स्थापना की जाएगी


 

 सोनीपत  ( आदेश त्याDSC_3356गी घसौली )सोनीपत
तीनों हास्टलों गार्गी देवी, कुंती देवी तथा गुणवती का लोकार्पण करते मुख्यमंत्री मनोहर लाल। कार्यक्रम को संबोधित करते सीएम व कार्यक्रम के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करती छात्राएं।
रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत। प्रदेश सरकार महिलाओं की रक्षा और सुरक्षा को लेकर कृत संकल्प है। इसके लिए हरियाणा पुलिस में महिलाओं की संख्या 8 प्रतिशत से बढाकर 33 प्रतिशत करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिला स्तर पर महिला थाने खोले गए है और अब जल्द ही उपमंडल स्तर पर महिला थानों की स्थापना की जाएगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल रविवार को भक्त फूल सिंह महिला विश्वविद्यालय खानपुर कलां के सातवें युवा महोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने विश्वविद्यालय की छात्राओं की सुविधा के लिए छह बसें व चार एम्बूलेंस खरीदने के लिए दो करोड़ रूपये की राशि देने की घोषणा की। इसके साथ ही युवा महोत्सव में छात्राओं के लिए एक समय की रिफ्रेशमेंट के लिए दो लाख रूपये व कन्या भ्रूण हत्या पर सांस्कृतिक प्रस्तुति देने वाली छात्रा को 11 हजार रूपये से सम्मानित करने की घोषणा भी की।
मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश सरकार महिलाओं की शिक्षा को लेकर पूरी तरह गम्भीर है। पिछले दो वर्ष में प्रदेश में 30 कालेज खोलने की घोषणा की है। इनमें से 20 से ज्यादा कालेज महिलाओं के लिए है। उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि प्रदेश में मैपिंग कर यह सुनिश्चित किया जाएगा कि छात्राओं को 20 किलोमीटर के दायरे में महिला महाविद्यालय उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि पहले छात्रओं को 60 किलोमीटर के दायरे में शिक्षण संस्थान में जाने के लिए नि:शुल्क पास उपलब्ध था, अब हमने इसके लिए सभी सीमाएं समाप्त कर दी है। उन्होंने कहा कि हमने प्रदेश में पढ़ाई के साथ-साथ स्वास्थ्य की दिशा में भी कदम उठाए है। प्रदेश में अस्पतालों के भवन तो है लेकिन डाक्टर उपलब्ध नहीं है। डॉक्टरों की इसी कमी पूरी करने के लिए प्रत्येक जिले में मेडिकल कालेज खोले जा रहे है। हमने निश्चय किया है कि प्रदेश में प्रतिवर्ष दो से ढाई हजार डाक्टर तैयार किए जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा को बने 50 वर्ष पूर्ण हो गए है और हम आज स्वर्ण जयंती वर्ष में प्रवेश कर चुके है। प्रदेश में हर क्षेत्र में लगातार तरक्की की है और प्रगतिशील प्रदेश के तौर पर अपनी पहचान बनाई है। हमारा विजन आज हर क्षेत्र में काम करने की जरूरत को पूरा करने का है। शिक्षा का क्षेत्र पुन्य का क्षेत्र है और इसका साक्षात उदाहरण 1936 में तीन कन्याओं से शुरू हुआ भक्त फूल सिंह महिला विश्वविद्यालय का यह परिसर है। उन्होंने पहली तीन छात्राओं कुंती, गुणवती व गार्गी के नाम पर तीन छात्रावासों के नामकरण करने पर उन्होंने भविष्य में प्रेरणादायक बताया। प्रदेश में रोजगार की जरूरतों पर बल देते हुए सीएम ने कहा कि युवक-युवतियों को रोजगार के अवसर मिले इसके लिए हमने गुरूग्राम में ग्लोबल इन्वेस्र्टस समिट का आयोजन किया। इस समिट में दुनियाभर के 3000 निवेशकों ने हिस्सा लिया, 650 एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए और प्रदेश में सात लाख करोड़ रूपये के निवेश का रास्ता खुला। ईज ऑफ डुईंग बिजनेश की ताजा रैंकिंग में हरियाणा इस बार 14वें से 5वें स्थान पर आ पहुंचा।  उन्होंने कहा कि यह सभी उद्योगपति एनसीआर में उद्योग लगाने पहुंचेंगे और इससे यहां व्यापार की सम्भावनाएं बढ़ेगी। आज प्रदेश में युवाओं के पास डिग्री तो है लेकिन हुनर की कमी है। उन्होंने कहा कि हमने प्रदेश में युवाओं को कौशल शिक्षा प्रदान करने के लिए पलवल के पृथला गांव में विश्वकर्मा कौशल शिक्षा विश्वविद्यालय की स्थापना की है। प्रदेश के खिलाडिय़ों के लिए हमने नई खेल नीति बनाई और दुनिया में सबसे ज्यादा 6 करोड़ रूपये का इनाम भी रखा। उन्होंने कहा कि हम शिक्षा, चिकित्सा, रोजगार, खेल, व्यापार पर काम कर रहे है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने चार करोड 63 लाख रूपये की लागत से बने विश्वविद्यालय के पांच भवनों का लोकापर्ण किया इनमें डिपार्टमेंट ऑफ होस्पिटेलिटी एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन की लैबोरेटरी, फैक्लटी ऑफ लॉ के मुख्य द्वार और गार्गी देवी, कुंती देवी तथा गुणवती छात्रावास शामिल है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने भक्त फूल सिंह प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए और पौधरोपण भी किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर डॉ. आशा कादयान ने विश्वविद्यालय की प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए कहा कि तीन छात्राओं गार्गी, गुणवती, कुंती के साथ 1936 में गुरूकुल परम्परा से शुरू हुए इस शिक्षण संस्थान में आज सात हजार छात्राएं केजी से लेकर पीएचडी तक की शिक्षा ग्रहण कर रही है। इस अवसर पर प्रदेश की शहरी स्थानीय निकाय, महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन, परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार, सांसद रमेश कौशिक, रामचंद्र जांगडा, कमला देवी, डॉ. धर्मबीर नांदल, कविता चक्रवर्ती, कविता चैधरी, आजाद सिंह नेहरा, बी के पुनिया,  प्रो. महेश दाधीच, बलराम कौशिक सहित सैकड़ों गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।
————-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *