फर्जी ग्राहक भेजकर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मारा छापा गर्भपात में प्रयोग की जाने वाली दवाईयां बरामद

पिछले काफी लंबे समय से एक घर में ही बगैर डिग्री
के क्लीनिक खोलकर बैठे एक दम्पति को गर्भपात करने के मामले में स्वास्थ्य
विभाग की टीम ने छापा मारकर गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से टीम
ने 8 हजार रूपए की वह रकम भी बरामद की है जोकि टीम ने गर्भपात कराने के
लिए एक फर्जी ग्राहक को देकर भेजी थी। मौके से टीम को गर्भपात में प्रयोग
की जाने वाली एमटीपी किट,काफी संख्या में औजार व प्रतिबंधित दवाईयां भी
बरामद की है। जानकारी अनुसार झज्जर की स्वास्थ्य विभाग की टीम को एक
गुप्त सूचना मिली थी कि झज्जर के मलिक काम्पलैक्स के पीछे शिव मंदिर के
पास एक घर में क्लीनिक खोलकर एक दम्पति गर्भपात करने का धंधा चला रहा है।

इसी गुप्त सूचना के आधार पर स्वास्थ्य विभाग की टीम हरकत में आई और उसने
अपनी छापेमारी की कार्यवाहीं को अमलीजामा पहनाने के लिए एक फर्जी ग्राहक
तैयार कर गर्भपात कराने के लिए भेजा। इस फर्जी ग्राहक को पांच-पांच सौ के
16 नोट भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिए। योजना अनुसार इस फर्जी ग्राहक
ने उक्त घरेलू क्लीनिक पर जाकर गर्भपात कराने के लिए जैसे ही सम्पर्क
किया,तो उससे गर्भपात करने की एवज में वहां मौजूद एक महिला ने आठ हजार
रूपए मांगे। योजना अनुसार टीम द्वारा भेजी गई इस फर्जी ग्राहक में जैसे
ही 8 हजार रूपए क्लीनिक पर बैठी महिला को दिए तो इशारा मिलते ही
स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई और महिला से 75सौ रूपए व उसके
पति रामसेवक से पांच सौ रूपए बरामद किए। तलाशी के दौरान इस घरेलू क्लीनिक
से टीम को एक गर्भपात में प्रयोग की जाने वाली एक एमटीपी किट व काफी
मात्रा में प्रतिबंधित दवाईयां बरामद की। आरोपी दम्पति के खिलाफ विभिन्न
धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया गया है। उधर इस मामले में स्वास्थ्य
विभाग की टीम का नेतृत्व कर रहे स्थानीय नागरिक अस्पताल के डिप्टी सीएमओ
डा.राकेश ने बताया कि विभाग को सूचना मिली थी कि उक्त घरेलू क्लीनिक पर
काफी लंबे समय से इस प्रकार से गर्भपात करने का धंधा चल रहा था। उसके बाद
ही कार्यवाहीं अमल में लाई गई।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *