बस

बस परमिट दे अपने चहेतों को फायदा पहुंचाने की मंशा ?

एक तरफ तो सरकार द्वारा बसों का निजीकरण करने को लेकर हरियाणा रोडवेज कर्मचारी लगातार हड़ताल कर रहे हैं। दूसरी तरफ जिन निजी बसों को परमिट मिल चुका है उन्हें रूट और टाइम टेबल उपलब्ध नहीं किए जा रहे है। रूट और टाइम टेबल न मिलने के कारण बस मालिक अपनी बसों को घर में ही खड़ा करने के लिए मजबूर हैं। क्या सरकार को यह नहीं करना चाहिए कि जिन बसों को पहले से ही परमिट मिल चुका है पहले उन बसों को रोड पर लाया जाए। ना की नई बसों को परमिट दिया जाए। मंत्री व अधिकारी सभी नई बसों को परमिट देने के लिए तैयार हैं। लेकिन पहले से ही परमिट लिए बसों को रूट और टाइम टेबलक्यों नहीं देते? क्या ऐसा ना करने के पीछे उनकी अपने चहेतों को परमिट दे फायदा पहुंचाने की मंशा नजर नहीं आती ?

  • परमिट दी गई बसों को क्यों, नहीं देते रूट और टाइम टेबल?
  • एक तरफ हरियाणा रोडवेज कर्मचारी सरकार द्वारा बसों का निजीकरण करने को लेकर रोडवेज कर्मचारी लगातार हड़ताल कर रहे हैं। 
  • जिन बसों को परमिट मिल चुका है उन्हें रूट और टाइम टेबल न मिलने के कारण बस मालिक अपनी बसों को घर में ही खड़ा करने के लिए मजबूर हैं। 
  • तो क्या सरकार को यह नहीं चाहिए कि जिन बसों को पहले से ही परमिट मिल चुका है पहले उन बसों को रोड पर लाया जाए ना की नई को परमिट दिया जाए?
  • मंत्री व अधिकारी सभी नई बसों को परमिट देने के लिए तैयार हैं लेकिन पहले से ही परमिट लिए बसों को क्यों नहीं देते रूट और टाइम टेबल?
  • क्या ऐसा ना करने के पीछे उनकी अपने चहेतों को परमिट दे फायदा पहुंचाने की मंशा नजर नहीं आती ?

Leave a Comment