रोडवेज तालमेल कमेटी ने सरकार की हठधर्मिता के चलते चार दिन हडताल को बढ़ाने का लिया निर्णय

कर्मचारी नेता बोले, जब तक सरकार निजी परमिटो को रद्द करने के फैसले को वापिस नहीं लेती जारी रहेगी हडताल
रोहतक, 25 अक्टूबर। रोडवेज तालमेल कमेटी के पदाधिकारियों ने सरकार पर हठधर्मिता का आरोप लगाते हुए हडताल को चार दिन और बढ़ाने का निर्णय लिया है। वीरवार को हुडा सिटी पार्क में रोडवेज कर्मचारियों की हडताल रोहतक डिपो तालमेल कमेटी के अध्यक्ष मंडल जोगेन्द्र बल्हारा, सतबीर मुढांल, नरेश नांदल, सुमेश कुण्डु, धर्मसिंह के नेतृत्व में दसवें दिन में प्रवेश कर गई।
इस अवसर पर तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य वीरेन्द्र सिंह धनखड़, सुमेर सिवाच व कृष्ण सुहाग ने हडताली कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि दो बार तालमेल कमेटी की सरकार के साथ वार्ता हो चुकी है, लेकिन सरकार अपनी हठधर्मिता पर अड़ी हुई है और जब तक सरकार 700 निजी बस परमिटों के फैसले को रद्द नहीं करती है तब तक हडताल जारी रहेगी।
कमेटी के वरिष्ठ सदस्य एवं रोडवेज कर्मचारी यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह धनखड़ ने तालमेल कमेटी द्वारा सर्वसम्मति से लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए बताया कि सरकार की हठधर्मिता के चलते हडताल को 29 अक्टूबर तक बढ़ा दिया गया है, अगर सरकार ने इस बीच निजी बसो के परमिटों को रद्द नहीं किया तो हडताल को तालमेल कमेटी अनिश्चितकाल करने के लिए मजबूर होगी।
उन्होंने कहा कि सरकार हठधर्मी पर अडी हुई है और दमनकारी नीतियों से कर्मचारियों की आवाज दबाना चाहती है, लेकिन कर्मचारी किसी भी सूरत में पीछे नहीं हटेगे। धनखड़ ने कहा कि रोडवेज कर्मचारी अपने हित के लिए नहीं बल्कि प्रदेश की जनता के हितो के लिए लड़ रहे है। सरकार ने 700 निजी बसो को परमिट देकर बहुत बडा घोटाला किया है और सरकार जब तक अपना फैसला वापिस नहीं लेती कर्मचारियों की हडताल जारी रहेगी।
उन्होंने कहा कि सरकार अपने चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए रोडवेज विभाग को निगम बनाना चाहती है, जिसे कर्मचारी जनता के सहयोग से नहीं होने देगे।
रोडवेज कर्मचारियों की हडताल को हरियाणा कर्मचारी महासंघ के दिलबाग अहलावत, बिजेन्द्र गुलिया, आजाद जोरासी, एसकेएस की प्रदेश के नेता सविता, रमेश लौरा, सर्व कर्मचारी संघ के कर्मबीर सिवाच, प्रेम घिलौडिया, विनोद देशवाल, संयुक्त कर्मचारी संघ के मेहर सिंह नैन, राजेश कुमार, मदवि गैर शिक्षक कर्मचारी संघ के पूर्व प्रधान भीम सिंह दलाल, महासंघ के पूर्व नेता रामचन्द्र फौगाट, धर्मपाल हुड्डा, ग्राम पंचायत सामण, बेडवा, गिरावड के प्रतिनिधियों तथा नौनंद गांव के सरपंच ओमप्रकाश सहित विभिन्न जनसंगठनों तथा सभी विभागों के सेवानिवृत कर्मचारियों ने भी अपना समर्थन दिया।

Leave a Comment