वैष्णो देवी भवन से भैरों घाटी स्थित मंदिर जाने के लिए नई रोप-वे सेवा आज से शुरू

 माता वैष्णो देवी भवन से भैरो घाटी की मुश्किल चढ़ाई करना अब तकलीफदेह नहीं

वैष्णो देवी भवन से भैरों घाटी स्थित मंदिर जाने वाले भक्तों के लिए नई रोप-वे सेवा आज से शुरू हो गई है। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सोमवार को इसका ई-उद्घाटन किया। ऐसे में माता वैष्णो देवी भवन से भैरो घाटी की मुश्किल चढ़ाई करना अब तकलीफदेह नहीं होगी। मान्यता है कि वैष्णो देवी आने वाले श्रद्धालुओं की यात्रा तब तक पूरी नहीं मानी जाती जब तक श्रद्धालु भैरों घाटी जाकर भैरो मंदिर के दर्शन न कर लें, लेकिन वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन करने के बाद अक्सर श्रद्धालु इतने थक जाते हैं कि वे भैरों घाटी की 6 हजार 600 फीट की खड़ी चढ़ाई नहीं कर पाते और बिना दर्शन किए ही वापस चले जाते हैं।

 

वैसे तो वैष्णो देवी से भैरो घाटी की दूरी सिर्फ 3.5 किलोमीटर है लेकिन चढ़ाई अधिक है लेकिन रोप-वे सेवा के बाद अब भैरो घाटी जाना आसान होगा। इस रोप-वे सेवा के लिए हर यात्री को सौ रुपये का भुगतान करना पड़ेगा। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की भवन से भैरों घाटी रोप-वे योजना पर 2013 में काम शुरू हुआ था।  इस सेवा के शुरू होने के बाद यात्री महज 5 मिनट में भवन से भैरों घाटी पहुंच जाएंगे।  वैष्णो देवी मंदिर जाने वाले यात्री बेशक रात के समय भी यात्रा करते हों लेकिन रोप-वे की सुविधा केवल दिन के समय ही मिल पाएगी। साथ ही हर दिन करीब 3 से 4 हजार श्रद्धालु माता वैष्णो देवी के भवन से भैरों घाटी की यात्रा कर सकेंगे।

 

रोपवे के उपकरण और केबिन स्विट्जरलैंड से आयात किए गए हैं. इसकी प्रणाली को पूरी तरह सुरक्षा नियमों के अनुरूप बनाया गया है। अधिकारियों ने बताया कि रोपवे की प्रति घंटे 800 यात्रियों को ले जाने की क्षमता होगी। रोप वे सेवा से खासतौर पर बुजुर्ग और दिव्यांग यात्रियों को बड़ी राहत मिलेगी। इस रोपवे के लिए भवन में अलग टिकट काउंटर भी बनाया गया है।

Leave a Comment