प्रयाग में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर संगम क्षेत्र को आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए लिए बन्द रखा जायेगा

कुम्भ नगरी प्रयाग में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर संगम क्षेत्र को आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए लिए बन्द रखा जायेगा। अपर जिलाधिकारी (कुम्भ) दिलीप कुमार त्रिगुनायत ने मंगलवार को यहां बताया कि मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ समेत करीब तीन हजार प्रवासी भारतीय 24 जनवरी को वाराणसी से वाल्बो बस से मेला क्षेत्र में लाया जायेगा। अरैल क्षेत्र में तैयार अत्याधुनिक सुविधा युक्त टेंट सिटी में इन्हें ठहराया जायेगा। इनकी सुरक्षा को देखते हुए किलाघाट से लेकर संगम नोज तक के सभी घाटों को आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए बन्द रखा जायेगा। वाराणसी में 21 से 23 जनवरी तक 15वां प्रवासी भारतीय सम्मेलन दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा अरैल स्थित वीआईपी घाट से लेकर टेंट सिटी तक के घाट पर भी रोक रहेगी। शहंशाह अकबर द्वारा निर्मित किला में सेना के संरक्षण में मूल अक्षयवट, पातालपुरी, सरस्वती कूप और लेटे हनुमान जी के दर्शन भी उस दिन आम श्रद्धालु नहीं कर सकेंगे।

श्री त्रिगुनायत ने बताया कि मेला क्षेत्र के सेक्टर पांच, छह एवं सात तथा क्षूंसी क्षेत्र के गंगा के सभी स्नान घाट आमजन एवं श्रद्धालुओं के आवागमन एवं स्नान के लिए खुले रहेंगे। उन्होंने बताया कि प्रवासी भारतीयों को पतित पावनी गंगा और श्यामल यमुना का क्रूज से सैर कराया जायेगा। गौरतलब है कि वाराणसी में 21 से 23 तक हो रहे 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन में शिरकत करने के बाद मेहमानों को दिव्य और भव्य कुम्भ का दर्शन कराने के लिए लाया 24 जनवरी को लाया जायेगा। प्रवासी भारतीय उसी दिन विशेष ट्रेन से दिल्ली के लिए रवाना हो जायेंगे जहां वह 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड के साक्षी बनेंगे।

Leave a Comment