दिल की बीमारियों के इलाज की आधुनिकतम तकनीक के बारे में लोगों को जागरूक होना चाहिए: डॉ नित्यानंद

पानीपत (अमित जैन)

पानीपत सेक्टर 25 एक निजी होटल में मैक्स हॉस्पिटल शालीमार बाग दिल्ली कार्डियोलॉजी के एसोसिएट डायरेक्टर एवं कैथ लैब के एचओडी डॉ नित्यानंद त्रिपाठी द्वारा एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया।

जिसमें उन्होंने दिल के दौरे तथा उसके उपचार के लिए विकसित नहीं विधियों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि गलत जीवनशैली के कारण आज अधिक से अधिक युवा भिन्न प्रकार के हड्डी रोगों की चपेट में आ रहे हैं।

उन्नत उपचार तकनीक की मदद से हृदय रोगों के लक्षणों को कम किया जा सकता है ताकि हृदय प्रभावी ढंग से कार्य करें। त्रिपाठी ने कहा अवरुद्ध धमनियों को खोलने के लिए एंजियोप्लास्टी की जाती है और स्टेंट लगाया जाता है लेकिन वैसे ज्यादातर मामलों में केवल पीटीसी प्रभावी उपचार साबित नहीं हो पाता है। जिनमें धमनियों में गंभीर रूप से कैल्सियम जमा हो जाता है।

मैक्स हॉस्पिटल में इन कैल्सीफाइड हिस्सों का रोटाबलेशन की मदद से सफलतापूर्वक इलाज किया जा रहा है। रोटाबलेशन में कोरोनरी धमनियों से कैल्शियम निकालने के लिए डायमंड बर का उपयोग किया जाता है और इसके बाद स्टेंट लगाया जाता है।

वहीं दूसरी ओर डॉक्टर राशि खेर ने कहा कि इसके अलावा विभिन्न नई तकनीकों की मदद से कठिन मामलों में भी बीमारी का पता बीमारी के लक्षणों के प्रकट होने से पहले ही चल जाता है।जबकि परम्परागत तरीकों से इसका पता तब चलता है जब बीमारी बढ़ चुकी होती है। ऐसी जटिल प्रक्रियाओं के लिए हमारे पास उपलब्ध तकनीकी विशेषज्ञता के कारण उपचार की सफलता दर 90 प्रतिशत से भी अधिक होती है।

Leave a Comment