लगातार बढ़ रहा है जन सेवा में समर्पित हेल्पिंग यूथ का कारवां।

पानीपत (अमित जैन)

धरती पर सभी जन्मों में से मानव जन्म को सर्वश्रेष्ठ माना गया है। यह तो हम सभी भली-भांति जानते ही हैं और इसे सार्थक बनाने के लिए हर कोई संभव प्रयास भी करता है। ऐसी ही एक सोच रखने वाले प्रवीण वर्मा का मानना है कि जिंदगी बहुत छोटी है अगर यह किसी के काम आ जाए तो इससे बड़ी कोई बात ही नहीं।

इसी विचार पर काम करते हुए वे पिछले 8 सालों से समाज सेवा में तन मन और धन से जुटे हुए हैं। उन्होंने बताया कि इसी सोच के के साथ हेल्पिंग यूथ वेलफेयर सोसाइटी सामाजिक संस्था की शुरुआत की तब 15 से 20 लोग थे जिसमें ज्यादातर युवा जुड़े और वर्तमान में युवाओं के साथ-साथ बड़े अनुभवी लोग भी इस में जुड़े हुए हैं।जो समय-समय पर सेवा के साथ-साथ सभी का मार्गदर्शन भी करते हैं।अगर उर्दू के एक मशहूर शायर की पंक्तियों को कहें की मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल मगर….लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया तो शायद कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

शहर वासियों की सेवा के लिए तकरीबन 2 साल पहले एक सोशल ग्रुप बनाया था जिसके जरिए पानीपत की ऋषि कॉलोनी में रहने वाले किडनी फेलियर व्यक्ति की मदद की और यहीं से मदद और सेवा का यह कारवां शुरू हो गया जो लगातार इसी तरह से आगे बढ़ता गया और जीवन में कई सारे मौके ऐसे भी आए जहां पर ऐसे लोगों की सहायता का दायित्व प्रशासन का बनता था लेकिन फिर भी मानवता को ध्यान में रखते हुए कभी भी प्रशासन की सहायता का इंतजार किए बिना हर जरूरतमंद की मदद की।

रक्तदान के क्षेत्र में भी युवा टीम के सदस्यों ने कोई कमी नहीं छोड़ी जिसमें 500 से ज्यादा रक्तदाता है और अब तक कई रक्तदान कैंप लगा चुके हैं।मेडिकल चेकअप कैंप भी समय-समय पर निरंतर किये जाते हैं। इसी के साथ ही सर्दी के मौसम में सर्दी में हमदर्दी एक विशेष मुहिम के तहत पानीपत बस स्टैंड रेलवे स्टेशन आदि जगहों पर रोजाना लंगर लगाना और लोगों को ठंड से बचाने के लिए कंबल आदि भी बांटे जाते हैं।

हाल ही में क्रोना महामारी के कारण लॉक डाउन के चलते जरूरतमंद परिवारों को पकाया हुआ भोजन पहुंचाने के साथ-साथ ही हर जरूरतमंद परिवारों तक कच्चा राशन पहुंचाने की सेवा शुरू है।

जोकि लॉक डाउन के अगले दिन से ही शहर की विभिन्न कॉलोनियों में रहने वाले लोगों तक पहुंचाया जोकि यह सारी सेवा शहर के प्रमुख समाजसेवियों के सहयोग एवं पूरी टीम द्वारा की जा रही है।क्योंकि यह संकट का समय है।ओर जब सभी एक साथ होकर सहयोग करेंगे तो इस जंग को जल्द से जल्द जीता जा सकेगा। जिससे हमारा भारत देश विश्व में अन्य देशों के लिए एक मिसाल बनेगा।

Leave a Comment