गूगल मीट के जरिए विश्व विद्यालय की छात्रों पर शिक्षकों की पैनी नजर

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने यूजी और पीजी के टर्मिनल सेमेस्टर, प्राइवेट और डिस्टेंस के 3.47 लाख छात्रों की ऑनलाइन परीक्षा आयोजित करके एक बार फिर से दृढ़ इच्छाशक्ति और संकल्प का परिचय देकर शिक्षा के क्षेत्र में एक मिसाल कायम की है। सोच समझ कर बनाई गई इस योजना के अनुसार मुख्य रूप से छात्रों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के साथ समझौता किए बिना और यूजीसी (UGC) के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए विश्वविद्यालय में 10 सितम्बर से सभी परीक्षाएं ब्लेंडेड मोड द्वारा सफलतापूर्वक आयोजित की जा रही हैं। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. नीता खन्ना ने बताया कि कुवि की आनलाइन परीक्षा पद्धति की सफलता को देखते हुए विभिन्न विश्वविद्यालय भी इस तरीके को अपना रहे हैं। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय ने सर्विलांस और प्रॉक्टरिंग के लिए पूरी परीक्षा में गूगल मीट का

इस्तेमाल किया है। लगभग हर छात्र की प्रवेश परीक्षा की अवधि को गूगल मीट पर शिक्षकों द्वारा दर्ज किया जा रहा है।कुछ छात्र जिनका इंटरनेट धीमा था, उनपर व्हाट्सएप वीडियो कॉल द्वारा भी नजर रखी जा रही है। शुरूआत में आई तकनीकी खामियों को दूर करते हुए छात्र हित में फैसले लिए जा रहे हैं। जिन विद्यार्थियों को आनलाइन माध्यम में असुविधा है उनके लिए आफलाइन माध्यम का विकल्प भी दिया गया है। आफलाइन माध्यम में विद्यार्थियों को उत्तर पुस्तिका भी विश्वविद्यालय मुहैया करवा रहा है। विश्वविद्यालय की परीक्षा शाखा द्वारा परीक्षार्थियों को सही समय पर प्रश्न पत्र उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। प्रशासन द्वारा इस तरह की व्यवस्था बनाई जा रही है ताकि विद्यार्थियों को परीक्षा सम्बन्धी किसी प्रकार की परेशानी न आए।

-44 पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की

कुलपति ने बताया कि केयू ने परीक्षाओं के सुचारू संचालन के लिए संबद्ध कॉलेजों में लगभग 44 पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की है जो 306 परीक्षा केन्द्रो के हर हालात पर नजर रख रहे हैं। डॉ. खन्ना ने आगे कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि अंतिम परीक्षा के समाप्त होने के दस दिनों के भीतर परीक्षा परिणाम निकाल दिए जाएंगे ताकि शैक्षणिक सत्र में कम से कम देरी हो। एक कठिन चुनौती थी कोरोना काल में परीक्षाएं आयोजित करना विश्वविद्यालय के लिए एक कठिन चुनौती थी जिसको स्वीकार करते हुए परीक्षा नियंत्रक डॉ. हुकम सिंह व डॉ. अंकेश्वर प्रकाश व उनकी पूरी टीम परीक्षाओं के सफल आयोजन के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। इसके अलावा परीक्षाओं के सफल आयोजन के लिए एक विशेष क्रियान्वयन कमेटी का गठन किया गया है जिसमें प्रो. अनिल वोहरा, प्रो. सुनील ढींगड़ा, प्रो. सीसी त्रिपाठी, डॉ. हुकम सिंह, डॉ. अंकेश्वर प्रकाश परीक्षा सम्बन्धी सभी तकनीकी पहलुओं पर कार्य कर रहे हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *