देश में 111 साल ऑपरेशंस के बाद कंपनी करने जा रही है ये काम, जानिए कारण

अमेरिकी कंपनी ने बाइक का अपना कारोबार भारत से समेटने का फैसला लिया है। निर्माता कंपनी हार्ले डेविडसन ने बावल स्थित अपने प्लांट बंद करने की घोषणा कर भारत से अपना कारोबार समेटने का संकेत दे दिया है। कंपनी ने अपने रिवायर प्रोग्राम के तहत यह निर्णय लिया है। हालांकि कंपनी ने इसके संकेत पहले ही दे दिए थे। हार्ले डेविडसन ने अगस्त में ही कहा था कि वे लाभ देने वाले बाजार जैसे यूएस पर ध्यान केन्द्रित करने वाली है तथा घाटे वाले बाजार छोड़ने वाली है।

ऐसे में अनुमान लगाया गया था कि कम बिक्री व डिमांड की वजह से कंपनी भारत छोड़ सकती है जिसकी आज पुष्टि कंपनी ने कर दी है। कम बिक्री के साथ साथ हार्ले डेविडसन के भारत छोड़ने के पीछे कोविड-19 की वजह से हुए नुकसान को भी माना जा रहा है, इस वजह से कंपनी भारतीय बाजार को छोड़ने के लिए बाध्य सी हो गयी थी। कंपनी ने पिछले वित्तीय वर्ष 2,500 यूनिट से भी कम मॉडल बेचे हैं जिस वजह से यह सबसे खराब करने वाले बाजार में से एक बन गयी थी। कंपनी की मीडिया तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि हार्ले डेविडसन ने अपने खर्चों में 75 मिलियन डॉलर की कटौती की योजना बनाई है।

जिसमें वह भारत में मैन्युफैक्चरिंग बंद कर रही है। अमेरिकी मोटरसाइकिल मेकर हार्ले डेविडसन ने भारत में अपनी मैन्यूफैक्चरिंग और सेल्स ऑपरेशन बंद की.कंपनी ने रिवायर प्रोग्राम के तहत भारत में मैन्युफैक्चरिंग और सेल्स ऑपरेशन को पूरी तरह से बंद कर दिया है. कंपनी गुरुवार को यह घोषणा की। हार्ले डेविडसन अपने खर्चों में 75 मिलियन डॉलर की कटौती की योजना बनाई है जिसमें वह भारत में मैन्युफैक्चरिंग बंद कर रही है। कंपनी अपने कारोबार को रिस्ट्रक्चर कर रही है।

देश में 111 साल ऑपरेशंस के बाद कंपनी अपना कारोबार भारत से समेट रही है। अगस्त में क्रूजर बाइक बनाने वाली हार्ले डेविडसन ने घाटे वाली अंतर्राष्ट्रीय मार्केट से बाहर निकल, फिर से अमेरिकी बाजार पर फोकस करने का संकेत दिया था। कम बिक्री और कोविड-19 महामारी से डिमांड में चौपट होने की आशंका ने बाइक मेकर को भारतीय बाजार से निकलने पर मजबूर किया। हार्ले डेविडसन इंडिया पिछले वित्तीय वर्ष में सिर्फ 2,500 यूनिट्स ही बेच पाई, जो अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सबसे खराब प्रदर्शन है।

भारत में कारोबार बंद होने से हार्ले डेविडसन के करीब 70 कर्मचारियों की नौकरी चली जाएगी। हरियाणा के बावल में कंपनी का असेम्बलिंग यूनिट है। वित्त वर्ष-19 में भारत में हार्ले बाइक की बिक्री 22 फीसदी घटकर 2,676 यूनिट्स रही। वित्त वर्ष 2018 में कंपनी ने 3,413 यूनिट्स बेची थी. भारत में हार्ले की 65 फीसदी बाइक 750से कम की थी जिसे हरियाणा में असेम्बल किया जाता था। कंपनी के बावल प्लांट में 150 से 200 कर्मचारी काम करते हैं।

Leave a Comment