कृषि कानूनों के विरोध में विधायक बलराज कुंडू अनशन पर बैठे

रोहतक- महम चौबीसी के एतिहासिक चबूतरे पर कृषि कानूनों के विरोध में विधायक बलराज कुंडू अनशन पर बैठ गए हैं। इस दौरान उनके धरने को समर्थन देने के लिए दूर दूर से आए अनेक किसान संगठनो, राजनैतिक पार्टियों व अन्य सामाजिक संगठनो ने जोर दार तरीके से समर्थन दिया । मुख्य रुप से स्वराज पार्टी के योगेंद्र यादव ,श्वेता ढूल,रवि आजाद भिवानी किसान नेता भारती,रामअवतार तायल हांसी,दयानन्द कुंडू,शाहपुर पानीपत,पवन सरपंच कैलरम तीतरम, अभिमन्यू कुहाड़, पलवल से कुंडू खाप अलीका से सविता कुंडू, गुज्जर समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष मजाहीर राणा,यूपी कैराना से विधायक चौधरी नाहिद हसन, किसान उत्धान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी मुस्तकीम हसन, दिल्ली के पूर्व विधायक संदीप वाल्मिकी, दलित संघर्ष समिति के प्रदेश महासचिव रवि कुंडली, आरएलडी के राष्ट्रीय महासचिव नवाब असरफ अली सहित अनेक नेताओं व खाप प्रतिनिधियों का समर्थन देने के लिए आना जारी है।

वहीं देश में लागू किए गए तीन कृषि कानूनों को वक्ताओं ने काला कानून बताते हूए कहा कि यह कानून किसानो की कब्र खोदने वाला सिद्ध होगा। किसान नेता राकेश टिकैत भी महम चौबीसी के चबूतरे पर विधायक बलराज कुंडू के “किसान-मजदूर न्याय युद्ध” को समर्थन देने पहुंचे हैं। बता दे कि विधायक कुंडू ने सरकार को 11 दिन का अल्टीमेटम दिया था। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर तीनों कानून वापस नहीं लिए तो दो अक्टूबर से महम चौबीसी से चबूतरे पर अनशन शुरु कर देंगे।

Leave a Comment