भूपेंद्र हुड्डा बोले- सरकार सुने किसानों की बात, दीपेंद्र बोले, अधिकारों की लड़ाई लोकतांत्रिक अधिकार

रोहतक :26 नवंबर, 2020 (इंडिया की दहाड़ ब्यूरो) किसानों के राष्ट्रव्यापी आंदोलन के मुद्दे को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि सरकार को आंदोलन कर रहे किसानों की बात सुननी चाहिए। लोकतंत्र में सभी काे अपनी बात रखने का अधिकार है। बातचीत से ही सभी मुद्दों का समाधान भी निकाला जा सकता है। वे वीरवार को अपने पिता चौ. रणवीर सिंह की 106 जयंती पर रोहतक स्थित उनकी समाधि पर हुई प्रार्थना सभा में भाग लेने पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि दबाने से किसानों को आंदोलन नहीं दबेगा।

उन्होंने कहा कि आंदोलन कर रहे किसानों पर वाटर कैनन आदि का प्रयाेग करना गलत है। वे शुरू से ही कह रहे हैं कृषि के तीनों कानूनों के साथ एक चौथा कानून भी लाया जाए। जिसमें जो कोई किसान की फसल एमएसपी से कम पर खरीदेगा, उसके लिए सजा का प्रावधान होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि सत्ता में आने पर बिलों में संशोधन किया जाएगा। वहीं, पानीपत की घटना पर उन्होंने कहा कि दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।

उधर, राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ना सभी का लोकतांत्रिक अधिकार है। उन्होंने सरकार पर निशाना साधा और कहा कि सरकार किसानों के आंदोलन को दमनकारी नीतियों से कुचलना चाहती है। किसानों की मांग जायज हैं और वे भी किसानों का समर्थन करते हैं। साथ ही उन्होंने किसानों पर हुई कार्रवाई की कड़े शब्दों में निंदा भी की। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ सरकार अपराधियों की तरह बर्ताव कर रही है। पूरे प्रदेश को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया है। उन्होंने भी तीनों कृषि कानूनों के साथ साथ एमएसपी निश्चित करने वाला चौथा कानून लाने की भी मांग की।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment