परिजनों को भी नहीं लगा सुराग, पुलिस में करवाया मामला दर्ज

दिल्ली से सटे फरीदाबाद में एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। फरीदाबाद के सेक्टर-7 की आजाद नगर की झुग्गियों में रहने वाली 23 वर्षीय राधा नामक युवती रहस्यमय परिस्थितियों में गायब हो गई। जिसके बाद सूचना पाकर परिजनों ने उसे हर जगह तलाशा परंतु उसका कोई सुराग नहीं लग पाया। परिजनों की शिकायत पर थाना … Read more परिजनों को भी नहीं लगा सुराग, पुलिस में करवाया मामला दर्ज

देश में 111 साल ऑपरेशंस के बाद कंपनी करने जा रही है ये काम, जानिए कारण

अमेरिकी कंपनी ने बाइक का अपना कारोबार भारत से समेटने का फैसला लिया है। निर्माता कंपनी हार्ले डेविडसन ने बावल स्थित अपने प्लांट बंद करने की घोषणा कर भारत से अपना कारोबार समेटने का संकेत दे दिया है। कंपनी ने अपने रिवायर प्रोग्राम के तहत यह निर्णय लिया है। हालांकि कंपनी ने इसके संकेत पहले ही दे दिए … Read more देश में 111 साल ऑपरेशंस के बाद कंपनी करने जा रही है ये काम, जानिए कारण

रणवीर ने NCB वालो के सामने जोड़े हाथ, दीपिका का ड्रग केस में नाम आने पर की ये रिक्वेस्ट

फ़िलहाल के दिनों में दीपिका पादुकोण बहुत ही ज्यादा दिक्कत से होकर के गुजर रही है। जब से उनका ड्रग्स केस में नाम आया है उसके बाद से ही दीपिका पादुकोण को कई सारे सवालों का सामना भी जाहिर तौर पर करना ही पड़ रहा है और अब वो क्या कुछ कर पाएगी और आगे … Read more रणवीर ने NCB वालो के सामने जोड़े हाथ, दीपिका का ड्रग केस में नाम आने पर की ये रिक्वेस्ट

प्रधानमंत्री के ‘मेक इन इंडिया’ नीति के अंतर्गत बॉम्बार्डियर के सावली प्लांट में आरआरटीएस के सारे ट्रेन सेट का होगा निर्माण

केंद्रीयआवास एवं शहरी विकास मंत्रालय के सचिव श्री  दुर्गाशंकर मिश्रा ने आज भारत की पहली रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) ट्रेन के प्रथम लुक का अनावरण राष्ट्रीय राजधानी परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) के प्रबंध निदेशक श्री विनय कुमार सिंह और एनसीआरटीसी के बोर्ड के सदस्यों की उपस्थिति में किया। इस मौके पर मंत्रालय, एनसीआरटीसी और बॉम्बार्डियर के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। 180 किलोमीटर प्रति घंटे की डिज़ाइन स्पीड वाली आरआरटीएस ट्रेन भारत में अपने प्रकार की पहली आधुनिक प्रणाली वाली ट्रेन है। स्टेनलेस स्टील से बनी ये एयरोडायनामिक ट्रेनें हल्के होने के साथ-साथ पूरी तरह से वातानुकूलितहोंगी। प्रत्येक कोच में प्रवेश और निकास के लिए ‘प्लग-इन’प्रकार के छह (दोनों तरफ तीन-तीन) स्वचालित दरवाजे होंगे जबकि बिजनेस क्लास कोच में ऐसे चार (दोनोंतरफ दो-दो) दरवाजे होंगे। सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक ट्रेन में एक बिज़नेस क्लास कोच होगा। आरआरटीएस ट्रेनों में 2×2 ट्रांसवर्स आरामदायक सीटें, यात्रियों के पैर रखने के लिए पर्याप्त जगह (Legroom), खड़े होकर यात्रा कर रहे लोगों के आरामदायक सफर के लिए दोनों तरफ की सीटों के बीच में पर्याप्त जगह (wide isle space), सामान रखने का रैक, मोबाइल/ लैपटॉपचार्जिंग सॉकेट, वाई-फाई और अन्ययात्री-केंद्रित सुविधाएं भी होंगी। आरआरटीएस ट्रेनों का डिज़ाइननई दिल्ली के प्रतिष्ठित लोटस टेम्पल से प्रेरित है। लोटस टेम्पल  एकऊर्जा-कुशल इमारत का प्रतीक है क्योंकि इसका डिज़ाइन प्रकाश और वायु के प्राकृतिक प्रवाह को बनाए रखता है। इसी तरह, आरआरटीएस ट्रेन में भी ऐसीप्रकाश और तापमान नियंत्रण प्रणाली होगी जो ऊर्जा के कम खपत के बावजूद यात्रियों को आरामदायक अनुभव देगी। आधुनिक सुविधाओं से लैस आरआरटीएस ट्रेन नए युग की तकनीक और भारत की समृद्ध विरासत का एक अनूठा मेल होगा। ट्रेन के प्रथमलुक का अनावरण करते हुए केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय के सचिव श्री  दुर्गाशंकर मिश्रा ने कहा की “इंफ्रास्ट्रक्चर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा परिकल्पित आत्मनिर्भर भारत के पांच स्तंभों में से एक है। यह बहुत गर्व की बात है