आईएमटी खरखौदा की अधिग्रहित 105 एकड़ जमीन से कब्जा लिया  आईएमटी के लिए अधिग्रहित 3200 एकड़ जमीन में से 97-98 प्रतिशत जमीन का मुआवजा उठा चुके हैं किसान

 सोनीपत ( आदेश त्यागी ) सोनीपत ;30 snp-1 अधिग्रहित जमीन का कब्जा लेते प्रशासनिक अधिकारी।
सोनीपत। इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशीप (आईएमटी) खरखौदा के लिए अधिग्रहित जमीन पर बुधवार को लगातार दूसरे दिन शांतिपूर्ण ढंग से प्रशासन द्वारा कब्जा ले लिया गया। उपमंडल अधिकारी (ना.) खरखौदा राजीव अहलावत के नेतृत्व में एचएसआईआईडीसी के अधिकारियों द्वारा कब्जा लेने का कार्य किया गया।
उपायुक्त के मकरंद पांडुरंग ने बताया कि आईएमटी खरखौदा के लिए 10 गांवों की 3200 एकड़ जमीन को एचएसआईआईडीसी द्वारा औद्योगिक मॉडल टाउनशिप (आईएमटी) के लिए अधिग्रहित किया गया है। इस अधिग्रहित जमीन से 97 से 98 प्रतिशत किसानों द्वारा मुआवजा उठा लिया गया है और जिनका बचा हुआ है वह पारिवारिक विवादों के चलते सिविल न्यायालय में लंबित है। उन्होंने बताया कि इस अधिग्रहित जमीन पर से अधिकतर किसानों ने मुआवजा उठाने के तुरंत बाद ही अपना कब्जा उठा लिया था। अब जितनी जमीन पर किसानों का कब्जा बचा हुआ है वहां किसानों से आगे काश्त न करने के लिए कहा गया है। इसके साथ जो जमीन कब्जा मुक्त करवाए बगैर बची हुई है उसे भी उपमंडल अधिकारी नागरिक (ना.) खरखौदा के नेतृत्व में खाली करवाया जा रहा है।
डीसी ने बताया कि टाउनशिप की निशानदेही का कार्य पूरा करने के बाद आगे का कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मंगलवार को यहां पिपली गांव से जमीन पर कब्जा लेने की कार्रवाई शुरू की गई। पहले दिन शांतिपूर्ण ढंग से 20 एकड़ जमीन से कब्जा लिया गया और बुधवार को दूसरे दिन 85 एकड़ जमीन पर कब्जा लेकर एचएसआईआईडीसी को सौंप दिया गया। उन्होंने बताया कि अगले कुछ दिनों में बची हुई जमीन की कब्जा कार्रवाई पूरी कर ली जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार खरखौदा में इंडस्ट्रिायल मॉडल टाउनशिप (आईएमटी) विकसित करने के लिए गंभीरता से कार्य कर रही है और यहां निवेश के लिए कई विश्वस्तरीय कंपनियों ने इच्छा जताई है। इससे यहां उद्योग धंधे विकसित होने से आस-पास रोजगार के नए अवसर उपलब्ध होंगे।

Leave a Comment