सहकारिता मंत्री ने किया जिला स्तरीय गीता जयंती समारोह का शुभारंभ  गीता का ज्ञान सिखाती है जीवन को जीने की शैली

 सोनीपत ( आदेश त्यागी ) सोनीपत ,8 snp-5 सहकारिता राज्यमंत्री मनीष ग्रोवर ने कहा कि हर व्यक्ति को समाज व राष्ट्रहित में सहयोग प्रदान करते हुए इस दिशा में तीव्र कदम बढ़ाने चाहिए। श्रीमदभागवत गीता भी यही संदेश देती है। गीता के संदेश को घर-घर व जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से ही हरियाणा सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर के साथ-साथ जिला व खंड स्तर पर गीता जयंती महोत्सव के आयोजन की शुरुआत की है। डीएवी स्कूल में आयोजित तीन दिवसीय जिला स्तरीय गीता जयंती महोत्सव का बतौर मुख्य अतिथि शुभारंभ करने के उपरांत समारोह को संबोधित कर रहे थे।
गीता जयंती महोत्सव के साथ-साथ सहकारिता राज्यमंत्री मनीष ग्रोवर ने प्रदर्शनी का भी उद्घाटन कर उसका अवलोकन किया। इस दौरान उन्होंने श्रीमदभागवत गीता का पूजन करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार यह वर्ष स्वर्ण जयंती वर्ष के रूप में मना रही है, जिसका शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुग्राम की धरती पर एक नवंबर को किया था। उन्होंने कहा कि गीता का ज्ञान हमारी संस्कृति का सार है। पांच हजार वर्ष पुराना गीता का ज्ञान बहुत बड़ा संदेश देती है, जिसे समझने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान देवी-देवताओं, ऋषि-मुनियों व संतों के प्रति विश्वास रखने वाला देश है। इसलिए वे धन्य हैं उस मां के जिसने इस मातृभूमि में उन्हें जन्म दिया। अन्यथा किसी दूसरे देश में जन्म लेते तो परिजनों से मिलने के लिए भी एक विशेष दिन (रविवार) का इंतजार करना पड़ता। जबकि भारतवर्ष में हर दिन तीज-त्योहार व ऐसे अवसर होते हैं जब पूरा समाज व परिवार एकत्रित होता है। उन्होंने कहा कि रावण के अंत की खुशी में दिवाली मनाते हैं जो अहंकार का परिचायक है। गीता भी संदेश देती है कि हमें अहंकार से दूर रहना चाहिए। इसलिए किसी भी पद पर बैठे व्यक्ति को उसका दुरुपयोग न कर समाजहित की सोच रखनी चाहिए। देश-प्रदेश में जाति-पाति, धर्म का भेदभाव खत्म होना चाहिए। उन्होंने आमजनमानस का आह्वान किया कि वे गीता के ज्ञान को आत्मसात करें। इस दौरान पत्रकारों द्वारा नोटबंदी के विषय पर पूछे सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से इससे गरीब आदमी को लाभ होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंत्योदय की भावना से यह कदम उठाया है। उन्होंने कहा कि 70 वर्षों तक देश को लूटने वालों के पास अब कोई मुद्दा नहीं है, जिसके चलते वे बेबुनियाद आरोप लगाकर जनता को बरगलाने को विफल प्रयास कर रहे हैं।  उपायुक्त के. मकरंद पांडुरंग ने कहा कि गीता का ज्ञान हमें जीवन को जीने की शैली सिखाता है। इस ज्ञान का अधिकाधिक प्रचार-प्रसार होना चाहिए। गीता के ज्ञान का जीवन में अत्यधिक महत्व है।  यज ज्ञान मानव मन के संशयों को मिटाता है। अतिरिक्त उपायुक्त शिवप्रसाद शर्मा ने कहा कि जीवन में संस्कारों का बहुत महत्व है, जिसकी आधारशिला धार्मिक पुस्तकें रखती हैं जिनमें गीता अति महत्वपूर्ण है। इस मौके पर उपायुक्त के. मकरंद पांडुरंग ने सहकारिता राज्यमंत्री मनीष ग्रोवर को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। साथ ही डाक विभाग ने मंत्री मनीष ग्रोवर के नाम की डाक टिकट जारी किया, जिसका लोकार्पण स्वयं ग्रोवर ने किया। यह डाक टिकट सहकारिता राज्यमंत्री को डाक अधीक्षक डीवी सैनी ने सौंपी।
ये गीता ज्ञान की धारा
पंचकुला थियेटर ग्रुप से आई नुक्कड़ नाटक मंडली ने ये गीता ज्ञान की धारा शीर्षक के अंतर्गत गीता के ज्ञान को प्रदर्शित करते हुए महाभारत के प्रमुख संवादों को प्रस्तुत किया। उन्होंने गीता को आज के दौर में भी प्रासंगिक बताते हुए विभिन्न समस्याओं को उकेरा। कुणाल चौधरी के नेतृत्व में प्रभावशाली अभिनय नृत्य नाट्य प्रस्तुति में गीता का सार समझाने का सफल प्रयास किया गया।
गीता के ज्ञान सराबोर हुआ सोनीपत
गीता जयंती महोत्सव में गीता के संदेश को प्रदर्शित करने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रभावशाली प्रस्तुतियां दी गई। राजकीय उच्च विद्यालय जठेड़ी के 7वीं कक्षा के छात्र हारून ने शुद्ध संस्कृत में गीता के श£ोकों का उच्चारण किया तो हर कोई मंत्रमुग्ध हो उठा। डीएवी स्कूल की वृद्धि ने सत्यम् शिवम् सुंदरम् की मधुर प्रस्तुति दी। जीवीएम गल्र्स कालेज की छात्रा प्रीति व आरती ने राधा-कृष्ण की अठखेलियों को मनोहारी रूप में प्रस्तुत किया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मुरथल अड्डा की छात्रा खुश्बू ने राधा नृत्य की सुंदर प्रस्तुति दी। जठेड़ी के विद्यार्थियों ने अर्जुन-कृष्ण व संजय-धृतराष्ट्र के संवादों को बेहतरीन रूप में प्रस्तुत किया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय राजपुर की छात्रा सिमरन ने गीता के ज्ञान के महत्व को भाषण के माध्यम से प्रस्तुत किया।
प्रदर्शनी ने दी कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी
गीता जयंती महोत्सव में प्रदर्शनी का आयोजन भी किया जा रहा है, जिसका अवलोकन करते हुए सहकारिता राज्यमंत्री मनीष ग्रोवर ने कहा कि यह अद्भत संगम है। जब गीता के ज्ञान के साथ-साथ लोगों को सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों से भी अवगत कराया जा रहा है। प्रदर्शनी में विभिन्न विभागों ने अपने स्टॉल लगाकर विभागीय जनहितैषी नीतियों की जानकारी प्रदर्शित करते हुए लोगों को उनका लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित किया।

Leave a Comment