बैंकों की तीन दिन की छुट्टी, एटीएम में भी नहीं डाला कैश

 सोनीपत इंडिया की दहाड़ ( आदेश त्यागी ) <10 snp-3 नोटबंदी के एक माह बाद भी कैश को लेकर जहां स्थिति पहले से नियंत्रण में नहीं है। वहीं नोटबंद के बाद पहली बार तीन दिन बैंक बंद होने से स्थिति और बिगड़ गई है। बैंकों की तीन दिन की छुट्टियां होने के कारण लोगों को कैश निकलवाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। तीन दिन की छुटिट्यों के दौरान प्रथम दिन बैंकों के अधिकतर एटीएम बंद नजर आए और जो खुले हुए थे उनमें कैश नहीं था।
नोटबंदी के बाद पहली बार तीन दिन के लिए बैंक बंद रहने का समाचार सुनते ही लोगों ने परेशानी भरी सांस ली। जहां बैंकों के सामने नोटिस पर दस, 11 व 12 की छुट्टी का नोटिस लगा हुआ था। वहीं ज्यादातर एटीएम बूथ भी बंद पड़े हुए थे। माह के दूसरे शनिवार रविवार के चलते दो दिन की छुट्टी तो पहले से ही थी। 12 दिसंबर को जयंती ईद मिलाद पर अवकाश रहेगा। पहले यह जयंती 13 दिसंबर की थी। इसी के चलते असमंजस था कि सोमवार की बैंकों में छुट्टी होगी या नहीं। सोमवार को बैंकों में छुट्टी की घोषणा के लिए शाम को बैंकों में मेल आया। जिसके बाद बैंक कर्मियों में छुट्टी की घोषणा की गई। कपिल मल्हौत्रा ने कहा कि पैसों की बहुत ज्यादा जरुरत थी, सुबह पता चला कि बैंकों की तीन दिन की छुट्टी हैं। ऐसे में किसी एटीएम में कैश मिल जाए, इसकी उम्मीद लेकर वह आया था, लेकिन किसी में भी कैश नहीं है, अब वह क्या करें। राजपाल ने कहा कि कैश देने को लेकर अधिकतर बैंकों ने पहले से हाथ खड़े कर रखे थे। अब तीन दिन की बैंक की छुट्टी हो गई है। ज्यादातर एटीएम पहले से ही बंद है। अब उन्हें कहा से कैश मिलेगा। पूरे शहर के एटीएम मशीनों के वह धक्के खा चुका है। कृष्ण ने कहा कि बैंकों की तीन दिन की छुट्टी तो हो गई, लेकिन वह स्कूल में टीचर है। उसको तो छुट्टी नहीं मिलती। अब एटीएम से पैसे निकलवाने के लिए आया था तो पता चला किसी एटीएम में पैसे नहीं ओर बैंक तीन दिन बाद खुलेंगे। अब मंगलवार तक उन्हें इंतजार करना पड़ेगा। प्रदूमन ने कहा कि तीन दिन की छुट्टी रहेगी। मंगलवार को बैंक खुलेंगे। एटीएम में नकदी डाले जानी की उम्मीद नहीं है। मंगलवार को भी उन्हें कैश मिलेगा या नहीं इसका बैंक खुलने के बाद ही पता लग पाएगा। आम जनता कैश को लेकर धक्के खाने पर मजबूर है। छुट्टियों से पहले एटीएम में कैश डाल देना चाहिए था। ताकि लोगों को राहत मिल जाती।

Leave a Comment