हम सभी का मुख्य लक्ष्य कोरोना का फैलने से रोकना

उपायुक्त धर्मेन्द्र सिंह ने बुधवार को कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लघु सचिवालय सभागार में आयोजित जिला स्तरीय बैठक में सभी इंसीडेंट कमाण्डरों व नोडल अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिला में बनाए गए सभी कंटेनमेंट जोन में सभी इंसीडेंट कमाण्डर रूटीन में दौरा कर यह सुनिश्चित करें कि उक्त जोन में दिए गए दिशा-निर्देशों की पालना ठीक ढंग से की जा रही है या नहीं।
उन्होंने कहा कि वे स्वयं भी शीघ्र ही कंटेनमेंट जोन का दौरा करेंगे। यदि कहीं भी कोई कमी नजर आई तो सम्बन्धित अधिकारी की जिम्मेदारी तय कर उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि इस कार्य को हल्के में न लें। सभी इंसीडेंट कमाण्डर अपने-अपने क्षेत्रों में होम आईसोलेशन मेें रखे गए लोगों की सूची तैयार कर उनसे बात करें कि होम आईसोलेशन के दौरान मैडिकल स्टाफ उनके साथ लगातार समन्वय रख रहा है या नहीं। उन्हें किसी तरह की समस्या तो नहीं आ रही है।
डीसी धर्मेंन्द्र सिंह ने कहा कि जिला में 53 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। सम्बन्धित नगर निगम या नगरपालिका, बीडीपीओ इत्यादि वहां पर सैनेटाईज समय-समय पर जरूर करवाएं। हम सभी का मुख्य लक्ष्य कोरोना का फैलने से रोकना है। सम्बन्धित एसडीएम भी समय-समय पर वहां पर दौरा करें। कंटेनमेंट जोन में दुकानें बन्द हैं या नहीं। आवागमन किस तरह का हो रहा है। यह सभी बातें सुनिश्चित की जाएं।
उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान दूसरें प्रदेशों के लोग जो यहां पर रह रहे हैं और उन्हें किसी कारणवश काम नहीं मिल पा रहा है। सम्बन्धित इंसीडेंट कमाण्डर ऐसे लोगों की सूची तैयार करवाएं, जिनमें उनका नाम, पता व अनुभव इत्यादि हो। ऐसा कोई व्यक्ति स्वयं भी 1950 नम्बर पर फोन कर अपनी जानकारी दे सकता है। यह जानकारी सरकार तक पहुंचाई जाएगी ताकि भविष्य में इनकों काम देने की कोई योजना बनाई जाती है तो सरकार इस सूचना को काम में ले सकती है। इंसीडेंट कमाण्डर ऐसी सूचना सरल हरियाणा पोर्टल पर देकर उसका रजिस्ट्रेशन भी करवा दें।
उपायुक्त ने कहा कि भविष्य की योजनाओं को लेकर जो लोक्ल कमेटी गठित की गई है। उनका काम अभी अधूरा है। इसलिए लोकल कमेटियां वर्किंग में लाई जाए। क्योंकि इनके द्वारा जो सर्वे किया जा रहा है। उन्हीं के आधार पर सरकार द्वारा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर दिए जा रहे अर्थिक लाभ का पता लग सकेगा। बैठक में एडीसी प्रीति, निगम आयुक्त, एसडीएम समालखा साहिल गुप्ता, एसडीएम पानीपत दलबीर सिंह, सीटीएम सुमन भांखड़, डीएसपी सतीश वत्स आदि शामिल रहें।

Leave a Comment