करनाल की गरीब छात्रा के सपनों को सामाजिक संस्था ने दी नई उड़ान , जिला युवा विकास संगठन ने की प्रतिभावान छात्रा की मदद , राज्य बाल संरक्षण आयोग की सदस्य डॉ प्रतिभा सिंह ने मेडिकल की तैयारी के लिए दिया टेबलेट , आगे भी दिलाया मदद का भरोसा

करनाल , अगस्त  
हरियाणा सरकार द्वारा प्रतिभावान छात्रों के लिए चलाई जा रही सुपर 100 योजना में शामिल करनाल की एक गरीब छात्रा के सपनों को उस समय नयी उड़ान मिली जब उसकी मेडिकल परीक्षा की तैयारी के लिए एक सामाजिक संस्था आगे आई। 2 वर्ष पूर्व सुपर 100 में चयनित तथा वर्तमान में शिक्षा विभाग के सहयोग से दक्षिणा ऐप के माध्यम से ऑनलाइन नीट की तैयारी कर रही करनाल निवासी सिमरन आर्थिक रूप से कमजोर होने और मोबाइल इत्यादि ना होने के कारण क्लास लगा नहीं पा रही थी जिससे उसके नीट की तैयारी में पिछड़ने की संभावना बनती जा रही थी । जब इस बात का पता जिला युवा विकास संगठन की महिला इकाई महासचिव एवं हरियाणा राज्य बाल संरक्षण आयोग की सदस्य डॉ प्रतिभा सिंह को लगा तो कार्यकारिणी के साथ विचार विमर्श करने के बाद शुक्रवार सुबह संगठन प्रधान तरुण कौशल हरियाली, महासचिव नरेश मित्तल केसरी ने लड़की के घर जाकर उसे सैमसंग टैब प्रदान किया। उन्होंने परिवार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए छात्रा की पढाई को सुचारु रुप से जारी रखने के लिए भविष्य में भी मदद का आश्वासन दिया।
 इस बारे में और जानकारी देते हुए संगठन के प्रधान तरुण  कौशल व महासचिव नरेश मित्तल ने कहा कि जिला युवा विकास संगठन पिछले 14 वर्षों से अन्य सामाजिक कार्यों के साथ-साथ शैक्षणिक दृष्टि से कमजोर,  निस्सहाय विद्यार्थियों की मदद करने की तरफ अग्रसर है।  इसी श्रृंखला में संगठन महिला महासचिव व हरियाणा राज्य बाल संरक्षण आयोग सदस्य डॉ प्रतिभा सिंह को सूचना मिली की सुपर हंड्रेड में चयनित तथा 12वीं के बाद पंचकूला में ही शिक्षा विभाग के सहयोग से नीट की तैयारी कर रहे छात्रों को कोविड के कारण घर बैठकर ऑनलाइन तैयारी करने के लिए कहा गया है ।
ऐसे में करनाल की प्रतिभावान छात्रा सिमरन एंड्राइड मोबाइल ना होने के कारण नीट की ऑनलाइन क्लास नहीं लगा पा रही हैं।  इस पर डॉक्टर प्रतिभा ने लड़की के साथ टेलीफोन पर वार्ता की तथा यह पता लगने के बाद की परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण उसे शिक्षा विभाग द्वारा नीट की तैयारी के लिए चलाई जा रही ऑनलाइन कक्षाओं को लगाने में दिक्कत आ रही है तो उन्होंने तभी उस लड़की को संगठन द्वारा मदद का आश्वासन दिया।  देर न करते हुए शुक्रवार सुबह ही संगठन की टीम ने घर जाकर लड़की को सैमसंग टैब प्रदान किया  इस अवसर पर टैब प्राप्त कर प्रसन्नता से सराबोर सिमरन ने बताया कि उसने 12वीं कक्षा में 92% अंक प्राप्त किए थे तथा अब वह दक्षिणा ऐप के माध्यम से शिक्षा विभाग द्वारा कराई जा रही नीट की तैयारी कर रही है , परंतु परिवार की कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण टैब या एंड्रॉयड फोन नहीं खरीद पा रही थी।  जिला युवा विकास संगठन ने यह टैब प्रदान कर मेरे हौसलों को पंख लगाने का कार्य किया है इसके लिए मैं जिला युवा संगठन का आभार व्यक्त करती हूं।
संगठन की महिला महासचिव व हरियाणा राज्य बाल संरक्षण आयोग की सदस्य डॉ प्रतिभा सिंह ने बताया कि जिला युवा विकास संगठन ने 9वीं 10वीं 11वीं 12वीं कक्षाओं के 68 बच्चे शैक्षणिक दृष्टि से गोद लिए हुए हैं जिनका शिक्षा संबंधी सारा खर्चा संगठन द्वारा वहन किया जाता है।  इसके साथ साथ संगठन सहायता मांगने पर अब तक 350 से अधिक विद्यार्थियों को शैक्षणिक सामग्री वितरित कर चुका है।  भविष्य में भी संगठन का यह प्रयास रहेगा कि आर्थिक  रूप से कमजोर होने के कारण कोई विद्यार्थी शिक्षा से वंचित ना रहे इसके लिए संगठन अपने उपलब्ध संसाधनों के माध्यम से निरंतर कोशिश करता रहेगा। 

Leave a Comment