अरावली में बसे कई अवैध फ़ार्म हाउस पर चला पीला पंजा, ऐनजीटी के कड़ी कार्रवाई के आदेश

फरीदाबाद-फरीदाबाद में अरावली क्षेत्र में स्थित कुछ कॉलोनियां और अवैध फॉर्म हाउस बन हुए हैं। लेकिन हैरानी वाली बात ये है कि आज तक किसी ने भी इस पर कड़ी कार्रवाई नहीं की। क्योंकि ज्यादातर फॉर्म हाउस बड़े-बड़े नेताओं और उच्छ अधिकारियों के हैं, तो किसी ने भी हिम्मत नहीं की इसके खिलाफ कदम उठाने की।

लेकिन अब एक शिकायत के बाद हंगामा देखने को मिला, तो वन विभाग ने नोटिस भेजकर अपना काम कर दिया। हाल ये हुआ ही सैकड़ों फॉर्महाउस के नीचे अरावली वन गायब होते चले गए। और वन विभाग की तरफ से कोई कड़ी कार्रवाई नहीं की गई।

लेकिन अब ये मामला नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के पास पहुंचा चुका है। एनजीटी का इस मामले में आदेश आते ही अवैध निर्माण करने वालों में हड़कंप मच गया है। क्योंकि एनजीटी ने आदेश जारी किया है कि अरावली वन क्षेत्र में बने सभी फॉर्महाउस को अगले छह महीनों के अंदर तोड़ दिया जाए। आदेश जारी होते ही डीटीपी और नगर निगम ने मिलकर अवैध रूप से बने इन फॉर्महाउस पर पीला पंजा चलाना शुरू कर दिया।

नगर निगम के एडिशनल कमिश्नर हरिओम अत्री ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि ये फार्म हाउस आलीशान बने हुए है और यहां पर लगातार पार्टियां भी होती रहती है। ऐसे में इन सभी फार्म हाउस मालिकों ने ये बिना सीएलयू के बना दिए। जब इन रईसदारों का नगर निगम ने नोटिस भेजा तो फार्म हाउस मालिक गेट खोलने की भी जरूरत नहीं समझी। नगर निगम के अधिकारी फार्म हाउस के बाहर नोटिस चस्पा कर उनको सूचित करते रहे लेकिन कुत्ते की दुम की तरह इनकी दुम भी टेड़ी की टेड़ी रही जिसके बाद सभी फार्म हाउसों को तोड़ा जा रहा है।

साथ ही कमिश्नर अत्री ने बताया कि ये सभी फॉर्महाउस बिना वन विभाग और एनजीटी के आदेश के बने हुए हैं। जो अवैध की लिस्ट में शामिल हैं। गुरुवार को दो दर्जन फार्म हाउस को तोड़ा गया है. और बाकी सभी अवैध रूप से बने सभी फार्म हाउस रडार पर हैं। यहीं नहीं अरावली के अलावा अन्य कहीं भी अगर अवैध कॉलोनी बनी हुई है, तो वे सभी कालोनियां भी रडार पर हैं। जल्द ही सभी कालोनियों को ध्वस्त किया जाएगा।

Leave a Comment