मेगा एनएसएस कैंप में दिया गया आग से बचाव जैसे विषयों पर व्यावहारिक प्रशिक्षण

 

स्वच्छता तथा आग से बचाव जैसे विषयों पर दिया गया व्यावहारिक प्रशिक्षण

 

एसडी पीजी कॉलेज में कुरुक्षेत्र विश्वविधालय एनएसएस पाठ्यक्रम के अनुसार आयोजित

सात दिवसीय एनएसएस कैंप का आज दूसरा दिन रहा जिसमे कॉलेज के लगभग सौ एनएसएस

कार्यकर्ताओं को अग्निशमन एवं सुरक्षा विभाग पानीपत हरियाणा सरकार से पधारे धर्मेन्द्र दाहिया

ने आपदा प्रबंधन एवं आग से बचाव के उपायों पर अपना व्याख्यान और व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया.

तत्पश्चात राजीव रंजन सीपीआरओ पंचकूला ने देश प्रेम और युवा विषय पर व्याख्यान देते हुए

एनएसएस कार्यकर्ताओं को देश की रीढ़ बताया. माननीय मेहमानों का स्वागत कॉलेज

प्राचार्य डॉ अनुपम अरोड़ा, एनएसएस अधिकारी डॉ राकेश गर्ग एवं डॉ संतोष कुमारी

और डॉ पवन कुमार ने पुष्प-पौधा रोपित गमले भेंट कर किया. प्राचार्य डॉ अनुपम अरोड़ा

ने एनएसएस कार्यकर्ताओं का उत्साहवर्धन करते हुए कहा की इन सात दिनों वे

कॉलेज के ब्रांड एम्बेसडर है और उनके द्वारा किया गया हर सकारात्मक कार्य

इतिहास में दर्ज होगा और समाज को एक नई दिशा देगा.

अग्निशमन एवं सुरक्षा विभाग हरियाणा सरकार पानीपत से पधारे धर्मेन्द्र दाहिया

ने आपदा प्रबंधन एवं अग्नि से बचाव के उपायों पर विस्तार से चर्चा की.

उन्होनें कहा की एनएसएस कार्यकर्ताओं को सबसे पहले फायर इक्स्टिंग्विशर इस्तेमाल करना

आना चाहिए और इसके लिए उन्हें व्यावहारिक ट्रेनिंग लेनी होगी.

उन्होनें कहा की हमें सर्वप्रथम इक्स्टिंग्विशर की नोक पर लगी सेफ्टी पिन हटानी चाहिए.

इसके बाद इक्स्टिंग्विशर को तिरछा करके ऊपर लगे वॉशर को झटके से दबाना चाहिए.

इसके दबते ही गैस निकलने लगती है. अगर वॉशर दब न रहा हो तो उसे तेजी से किसी

दीवार पर मारना चाहिए. जब गैस निकलने लगे तो एक्स्टिंगिशर को तिरछा करके आग के सोर्स की तरफ ले जाएं.

ध्यान रखें कि टारगेट आग की लपटों पर नहीं बल्कि आग शुरू होने के पॉइंट पर होना चाहिए.

आम तौर पर फायर एक्स्टिंगिशर बाजार में एक हजार रुपये में मिल जाता है

परन्तु कीमत से ज्यादा जो कुछ यह बचा कर जाता है उसका कोई मूल्य नहीं है.

फिर उन्होनें शॉर्ट सर्किट अर्थात बिजली की वजह से होने वाले आग के हादसों को विस्तार से बताया.

उन्होनें कहा की 60 प्रतिशत मामले शॉर्ट सर्किट, ओवरहीटिंग, ओवरलोडिंग,

खराब गुणवत्ता के उपकरण, बिजली के तारों को गलत तरह से जोड़ने और

लापरवाही की वजह से होते हैं. बिजली से जुड़ी आग काफी खतरनाक होती है

और इसे संभालना भी काफी मुश्किल होता है.

इसलिए किसी भी तरह की आग लगने पर पावर सप्लाई बंद करना बहुत जरूरी है.

 

 

 

                                                         

Leave a Comment