भाजपा सांसद राजकुमार सैनी को पगड़ी बांधते आयोजक समिति सदस्य व खरखौदा में आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते कुरुक्षेत्र सांसद राजकुमार सैनी। 

आदेश त्यागी सोनीपत ।
कस्बे खरखौदा में आयोजित एक कार्यक्रम में पहुंंचे राजकुमार सैनी ने कहा कि कुछ लोग कमजोर वर्ग के हित पर डाका डालने की बात कर रहे हैं, लेकिन उनकी मांग है कि अगर आरक्षण देना ही है तो संख्या के आधार पर दिया जाए। जिससे कि किसी वर्ग का हक ना मारा जा सके। सांसद राजकुमार सैनी ने कहा कि कुछ लोगों ने राजनैतिक पूर्ति के लिए प्रदेश के भाईचारे को बिगाडऩे का काम किया है। इन लोगों को ऐसा नहीं करना चाहिए। सांसद सैनी ने कहा कि लठतंत्र के बल पर अपनी मांगों को मनवाने की कोशिश करने वालों को यह जान लेना चाहिए कि इस देश में प्रजातंत्र चलता है। कुछ लोग लठ के जोर पर अपनी ताकत दिखा रहे हैं और आरक्षण भी मांग रहे हैं। ऐसे में अगर आरक्षण दिया जाना है तो फिर ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए कि हर वर्ग को उसकी संख्या के मुताबिक आरक्षण मिले। फिर चाहे राज कोई भी करे।
सांसद ने कहा कि भीमराव अंबेडकर ने हम सबको एक ताकत दी है कि हमें उसे एकजुट होकर लागू रखना है। उन्होंने कहा कि जाति विशेष या व्यक्ति विशेष पर उन्होंने आज तक कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन उनके ऊपर हुए जानलेवा हमले को सिर्फ स्याही का रंग दिया जा रहा है। उन्हें पूरा पूर अंदेशा है कि इनेलो कंपनी के लोगों ने उनके ऊपर यह हमला करवाया। सांसद सैनी ने कहा कि हमें एक होकर अपना हक लेना होगा। हम किसी के दुश्मन नहीं है, लेकिन भाईचारे में आप लोग सिर्फ चारा बनकर मत रहो, ऐसा भाईचारा किसी काम का नहीं होता। उन्होंने कांग्रेेस पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस नेता कहते है कि हम किसान हित में आवाज उठाऐंगे और इनको उभारने का काम करें। लेकिन इतिहास गवाह है कि 70 में से 60 साल कांग्रेस ने देश पर राज किया। इसके बाद 35 रुपये किलो दाल से ज्यादा पैसा किसान को नहीं मिल पाया है। अब तक जिसने भी सत्ता संभाली अपने घर भरने व परिवार के लोगों को एडजेस्ट करने में लगे रहे। राजकुमार सैनी ने कहा कि देश का प्रजातंत्र आज बैसाखियों के सहारे आ गया है। जनता द्वारा चुनकर भेजे गए एमपी बिल पास करने के बाद भी राज्यसभा का मुंह ताकते रहते हैं। उन्होंने कहा कि राज्यसभा अंग्रेेजों का सदन है, देश हित में इसे समाप्त कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम मिलकर रहेंगे तभी जीऐंगे हमें किसी का विरोध नहीं करना है, एकता का सबूत देते रहना है, ताकि हर पार्टी और बड़ी से बड़ी ताकत हमारे सामने झुकने को मजबूर हो जाए। उन्होंने 28 नवंबर को कुरुक्षेत्र में आयोजित समानता सम्मेलन का लोगों को न्यौता दिया। सांसद ने दीपावली पर चाइनीज सामान का विरोध करने की बात कही, लेकिन एक सवाल के जवाब में कहा कि हमारी नीतियों पर जो व्यापार करना चाहता है। वह यहां पर व्यापार कर सकता है, लेकिन इसे देश को सिर्फ एक बाजार नहीं बनने दिया जाएगा। इस अवसर पर रामनिवास, रामकंवार सैनी, श्याम सैनी, धर्मबीर सैनी, सोनिया अग्रवाल, मनबीर सैनी, सुरेश खत्री, विरेंद्र स्वामी, रामपाल राठी, रोशनी देवी, हीरा लाल, देवेंद्र सैनी आदि मौजूद रहे।

Leave a Comment