ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में आयोजित होंगी परीक्षाएं

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. नीता खन्ना के मार्गदर्शन में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय निरन्तर प्रगति के पथ पर अग्रसर है। छात्रों के हित एवं भविष्य को देखते हुए सबसे पहले पहल करते हुए कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने 10 सितंबर से ऑफ़लाइन और ऑनलाइन मोड के मिश्रण के माध्यम से सभी स्नातक और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित करने का निर्णय लिया है। इस बारे में अधिसूचना भी जारी की जा चुकी है। डेटशीट भी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कि यूजी तथा पीजी पाठ्यक्रमों के लिए परीक्षाएं 10 सितंबर से शुरू होंगी। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से करीब 278 कॉलेज संबद्ध हैं जिनमें लगभग 1.20 लाख छात्र परीक्षा देंगे। कुलपति डॉ. नीता खन्ना ने बताया कि यूजीसी ने कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सभी विश्वविद्यालयों को अंतिम वर्ष की परीक्षाएं कराने के लिए 30 सितम्बर तक का समय दिया है।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय प्रदेश का सबसे बड़ा व प्रतिष्ठित नैक ए-प्लस स्वायत्ता प्राप्त विश्वविद्यालय है जिसमें अलग-अलग प्रदेशो से व अंतरराष्ट्रीय छात्र भी शिक्षा ग्रहण करते हैं। दूर के जिलों के छात्र भी कोराना से सुरक्षित रहें इसी को दृष्टिगत रखते हुए परीक्षाओं के मॉडल को डिजाइन किया गया है। विश्वविद्यालय के लिए इस कठिन समय में परीक्षाएं कराना एक चुनौती था। परीक्षाओं सम्बंधी निर्णय लेने के लिए विश्वविद्यालय के डीन तथा कालेजों के प्राचार्यो से विचार-विमर्श करने के पश्चात् ही ऑफलाइन और ऑनलाइन मोड के मिश्रण के माध्यम से ही परीक्षाएं आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंनें बताया कि अंतिम वर्ष के छात्रों (टर्मिनल सेमेस्टर) की जिन विषयों में प्रेक्टिकल की परीक्षाएं होनी है उनको 1 सितम्बर से 9 सितम्बर तक आयोजित किया जाएगा। प्राइवेट परीक्षार्थियों के लिए उनके जिलों में ही केन्द्र स्थापित कर दिए गए हैं।

Leave a Comment