किसानों की मांगो को लेकर भिवानी में इनलो उतरी सडक़ों पर, सौंपा ज्ञापन

भिवानी में आज इनेलो ने जिला स्तर पर सडक़ों पर उतर सरकार से किसानों को बर्बाद कपास की फसल का मुआवजा देने की मांग की। इनेलो ने सरकार से प्रति एकड़ 30 हजार मुआवजा देने की मांग की गई। साथ ही आरोप लगाया कि भाजपा सरकार कहने को किसान हितैषी है, लेकिन हर फैसला व योजना किसान विरोधी है। बता दें कि इनलो ने किसानों की मांग को लेकर सोमवार को पूरे प्रदेश में जिला स्तर पर प्रदर्शन किया। इस दौरान सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई और हर जिला स्तर पर उपायुक्त के माघ्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा और किसानों को 30 हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवाज देने की मांग की गई। इस दौरान जिला अध्यक्ष पंडित रवि महमिया बहलवाला ने बताया कि आज हर जिला में किसानों की नरमा की फसल झुलसा रोग, सफेद मक्खी व तेला जैसी बीमारियों से बर्बाद हो चुकी है। ऐसे में भाजपा की गुंगी बहरी सरकार को जगाने और बर्बाद फसल की गिरदावरी करवाकर किसानों को 30 हजार रूपये प्रति एकड़ देने की मांग की गई है। उन्होंने कहा कि भाजपा किसानों को लेकर जो कहती है, करती उसका बिल्कुल उल्ट है। वही पूर्व विधायक ओमप्रकाश बड़वा व पूर्व विधायक धर्मपाल ओबरा ने कहा कि जो भाजपा स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की बात करती थी, सत्ता में आते ही लागू करना तो दूर उल्टा किसानों को बर्बाद करने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि दिन रात व गर्मी-सर्दी की परवाह किए बिना देश का अन्नदाता लोगों का पेट भरता है, लेकिन कभी सुखे तो कभी बाढ़ और इनसे बच जाए तो ये बिमारी उसकी फसल बीमारी के कारण चौपट हो जाती है।

उन्होंने कहा कि अभी सफेद मक्खी और झुलसा रोग से किसानों की पूरी की पूरी फसल नष्ट हो गई हैं। इसीलिए मांग की गई कि सरकार अविलंब विशेष गिरदावरी करवाकर किसानों को प्रभावित किसानों को प्रति एकड़ 30 हजार रूपये मुआवजा देने की मांग को लेकर उपायुक्त के माध्यम से सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा किसानों के लिए जो तीन अध्ययादेश ला रही है, उससे किसान व कृषि पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी। भारतीय जनता पार्टी की सरकार का ध्यान किसानों की बजाए अड़ानी व अंबानी की तरक्की पर ज्यादा हैं। सरकार सभी नीजिकरण के जरिए बड़े उद्योगपतियों को लाभांवित करना चाहती हैं। जो देश की जनता पर कुठाराघात हैं। इस अवसर पर प्रदेश महासचिव सुनील लांबा, कुलवंत कोंटिया, धीरा पटौदी, बलवान जमालपुर, संजय श्योराण, विशाल बामला, दिलबाग सिंह पूर्व चेयरमैन, ओमप्रकाश कडवासरा, अशोक ढ़ाणीमाहु, अनिल काठपालिया, रणसिंह श्योराण, अनुप बागनवाला, भूप बैराण, ईश्वर बैरागी, मिनी गौरीपुर, मुखत्यार नाई, आनंद सांगवान, मुकेश महतानी, संदीप दुहन, लाला बामला, मोहित महमिया, महाबीर ढ़ाबढ़ाणी, अरूण बुसान, योगेश मेचू, जगदीप ढ़ांडा, एडवोकेट पुनिया, सहित अनेक पदाधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Comment